प्रेगनेंसी में आप इन तरीकों से सुरक्षित दिवाली मना सकती हैं

Safety guide for Diwali during pregnancy

दिवाली एक ऐसा समय है जब लोग अपने घर की सफाई करके उसे सजाते हैं, और इस पल को वो अपने परिवार के साथ एंजॉय करते हैं। प्रेगनेंसी का ये मतलब नहीं है की अब आप अपनी दिवाली को अच्छे से मना नहीं सकती। प्रेगनेंसी में अगर आप दिवाली मना रही हैं तो आपको बाकी काम थोड़े मुश्किल लग सकते हैं। इस समय घर के काम करना भी थोड़े थकाने वाले हो सकते हैं और माँ बनने वाली महिलाओं को ये नहीं करने चाहिए।

दिवाली को सुरक्षित मनाने के कुछ तरीके:

पहला सुझाव: कोई भी ऐसा काम ना करें, जिसमें आपका संतुलन बिगड़े, आपके पेट के बढ्ने के साथ आपका गुरुत्व केंद्र भी बदलता है, और आपकी मासपेशियाँ भी ढीली पड़ती हैं। इससे आपको चोट लग सकती है। इस समय ऊपर की कोई भी स्लिप साफ करने से बचें, या पंखा वगहराह भी साफ ना करें। इस काम के लिए किसी की मदद जरूर लें।

दूसरा सुझाव: इस समय ज़्यादा वज़न ना उठाएँ, जिन घर के काम में आपको ज़्यादा वज़न उठाना पड़ता है उससे बचें, क्योंकि इससे आपकी पीठ पर दबाव पड़ सकता है। ऐसे किसी भी काम के लिए अपने पति की मदद लें, आखिर बच्चा आप दोनों का है। भारत में बड़ों का आर्शीवाद लेना एक परंपरा है। इस समय अपने घुटनों को मोड़कर पाँव छूएँ, पूरा झुकने से बचें। अगर आपके रिशतेदारों को सब पता है तो वो इस बात को समझेंगे और शायद आपको पाँव छूने से मना भी करदें।

तीसरा सुझाव: साफ करने का रसायन-ये वैसे हमेशा ऐसे रसायन से बनता है जो आपको जी मिचला सकता है। अगर आप अपने घर में पेंट या फिर से फ़र्निचर लगवाना चाहती हैं तो इस काम के पूरा होने तक घर से बाहर ही रहें। ऐसे रसायन के संपर्क में सीधे आने से आपके बच्चे को नुकसान हो सकता है।

चौथा सुझाव: कुछ ज़्यादा अपने आप को न थकाएँ, ये आपके लिए अच्छा नहीं है। प्रेगनेंसी में दिवाली की तैयारी करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। घर साफ करना हो या पड़ोसियों के लिए प्रसाद तैयार करना हो, ये सभी काम आपको थका सकते हैं, अगर आपको कुछ भी करने का मन ना करे तो उस काम को नहीं करें, इस समय प्रसव से पूर्व डॉक्टर से मिलना भी ना भूलें।

पांचवा सुझाव: इस समय आपको अपने अंदर ऊर्जा का प्रवाह रखना है। इस समय आप काफी व्यस्त हो सकती हैं, लेकिन आपको इस समय अपने बच्चे के पोषण का खयाल रखना है। इस समय अच्छा खाएं और अपने अंदर पानी की कमी ना होने दें। इस समय आपको मीठी चीज़ काफी दिखाई देंगी, इनकी कम से कम मात्रा लें। इससे आपको पेट में जलन नहीं होगी। इस समय आपको दिन में थोड़ा सोना भी चाहिए, ऐसा करने से आपकी ऊर्जा फिर से वापिस आ सकती है। अगर आप काम करने वाले महिला हैं तो अपने बॉस से अपनी दिक्कत के बारे में बात करें।

दिवाली सही प्रकार से मनाना

इस समय वो कपड़े पहनें जो आपके लिए अच्छे और आपको सपोर्ट करते हों। इस समय आपको सूती कपड़े पहनने चाहिए, क्योंकि सिंथेटिक कपड़े आग पकड़ सकते हैं। इस समय ज़्यादा हील वाले जूते भी ना पहनें, और फ्लेट्स पहनने में यकीन करें। इस समय आप दिये जलाएँ, और पटाखे जलाने से बचें। इस समय ध्वनि और वायु प्रदूषण आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए हानिकारक हो सकता है। अगर बच्चे को इस समय सही से ऑक्सिजन नहीं पहुंची तो बच्चे का वज़न जन्म के समय कम हो सकता है, और वो समय से पहले भी पैदा हो सकता है, और इससे बच्चे के दिल पर भी असर पड़ सकता है। इसलिए आपको किसी सही हवादार जगह में रहने के लिए कहा जाता है, जहां प्रदूषण ना हो। अगर आपको काफी देर के लिए बाहर रहना है तो इस समय मास्क पहनने के बारे में विचार बनाएँ। अगर आपको सांस लेने, या उल्टी जैसा कुछ लगे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। अगर आपको पहले से ही कुछ दिक्कत चल रही है तो डॉक्टर से बात करें की आपको इस समय किस प्रकार से रहना चाहिए। इस समय अपने पास प्राथमिक चिकित्सा हमेशा तैयार रखें, और किसी एमर्जन्सि की स्थिति में आपके पास सभी के कांटैक्ट नंबर होने चाहिए। ये सब दिमाग में रखकर आप एक अच्छी दिवाली मना सकती हैं। हमारी तरफ से दिवाली की शुभकामनाएँ!