क्या मैं अपने प्रेगनेंसी वाले खाने में केसर मिला सकती हूँ?

Saffron during pregnancy

आपने आजतक केसर के काफी फायदे सुने होंगे, कुछ लोग इसे चमत्कारी मसाला कहते हैं। दुनिया में सभी लोगों की अपनी अलग केसर की कहानी है। लेकिन एक सवाल हमेशा दिमाग में आता है। क्या केसर को आपके आहार में जोड़ा जा सकता है? चलिए इन सवालों के जवाब ढूंढते हैं।

हमें पता है की आपको इंतज़ार करना काफी अजीब लगता है इसलिए हम आपको जवाब देते हैं, और जवाब है की हाँ आप प्रेगनेंसी में केसर खा सकती हैं, पर सही मात्रा में, और ये आपके आहार का हिस्सा होना चाहिए, मतलब डॉक्टर द्वारा बताए गए खाने का एक हिस्सा होना चाहिए।

केसर के बारे में कहा जाता है की इससे प्रेगनेंट महिलाओं का पाचन तंत्र अच्छा होता है। आपको सलाह दी जाती है की कम से कम इस्तेमाल करना है ही आपके लिए सही है।

चलिए केसर के बारे में बात करते हैं

केसर को केसर के फूल से निकाला जाता है और एक फूल से काफी कम मात्रा में केसर होता है। जितनी कम मात्रा में ये मिलता है उतना ही ज़्यादा श्रम लगता है इसे पूरी तरह से प्राप्त करने में, और इसी वजह से ये काफी महंगा मिलता है।

जानने वाली बात: केसर से बच्चा गोरा नहीं होता!

इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है की किसी भी नाटक में कोई बुजुर्ग महिला क्या कहती है, सही बात ये है की केसर से आपका आने वाला बच्चा गोरा नहीं बनता। हालांकि ये कहा जाता है की अगर आप प्रेगनेंसी में 10 ग्राम से कम केसर हर दिन लेती हैं तो आपकी प्रेगनेंसी की कई समस्या कम हो जाती हैं। ज़्यादा लेने से भी दिक्कत हो सकती है, जैसे गर्भपात।

तो केसर को आहार में डाला ही क्यों जाए?

भले ही कोई कितनी ही बाते बोले पर केसर के अपने अलग फायदे हैं:

1.आपको शांत रखती है: आपने सुना होगा या खुद महसूस किया होगा की प्रेगनेंसी में आपके शरीर में काफी बदलाव होते हैं और इसकी वजह से आपको काफी बेचैनी हो सकती है, इसी समय केसर आपको आराम दे सकता है।

2.आपका पाचन अच्छा करता है: इससे आपके पाचन तंत्र में खून का संचार अच्छा होता है, और इससे आपका चयपचय भी अच्छा होता है।

3.आपका ब्लड प्रैशर सही रहता है: केसर से आपका ब्लड प्रैशर सही रहता है और आपके अंदर सब सही चलता है।

4.उल्टी की समस्या से निजात: इससे आपका प्रतिरोधक तंत्र सही रहता है, और आपको जी मिचलने की समस्या से निजात मिलती है। इसी वजह से आपको हमेशा फ्रेश लगेगा।

5.दर्द कम होता है: ये एक दर्द निवारक है, इससे आपके जोड़ों का दर्द भी कम होता है।

6.सप्लिमेंट आइरन: ये आपके शरीर में आइरन, लाल रक्त कोशिका, और हीमोग्लोबिन भरता है।

7.मोटापा सही रहता है: इससे आपके अंदर चर्बी ज़्यादा नहीं बनती, और इसकी वजह है पॉटेश्यम, एंटीऑक्सीडेंट्स और क्रोसेटिन। इससे धमनियाँ भी साफ होती हैं।

8.इससे नींद अच्छी होती है: इसमें कुछ ऐसे गुण होते हैं जिससे आपको अच्छी नींद आएगी। प्रेगनेंसी में सही नींद लेना एक बड़ा चैलेंज है, और इस समय अगर कोई भी चीज़ आपको अच्छी नींद दिलाए तो ये आपके लिए सबसे अच्छी बात ही होगी।

9.दाँत की समस्या कम करती है: प्रेगनेंसी में आपने ब्रश करते हुए अपने दाँत से खून आते हुए देखा होगा। इस समय केसर का इस्तेमाल करें और शायद आपकी खून निकलने की समस्या अपने आप गायब हो जाए।

10.आपकी एलर्जी जैसे खांसी और बलगम की समस्या केसर वाले दूध से जा सकती है।

11.इससे आपके बालों की लंबाई बढ़ती है: अगर आपके बाल प्रेगनेंसी में झड़ रहे हैं तो आपको केसर वाला दूध पीना चाहिए, डॉक्टर भी आपको इसकी सलाह देंगे।

12.त्वचा अच्छी होती है: इससे खून साफ होता है, और आपकी त्वचा प्रकृतिक रूप से साफ होती है।

13.इससे आप बच्चे के पास आती हैं: केसर से आपके शरीर का तापमान बढ़ता है, और इस कारण आप अपने बच्चे की सभी गतिविधि सुन सकते हैं। इसके अलावा केसर से आपकी किडनी और मूत्र थैली की समस्या भी दूर रहती हैं। इसमें थियामिन, रिबोफ्लेविन, नियासीन, विटामिन ए और सी और फॉलिक एसिड भी होता है, ये सभी तत्व आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए काफी अहम होते हैं।

क्या कोई नुकसान भी हैं?

कुछ फायदे के साथ इसके कुछ नुकसान भी हैं। इसलिए सावधान रहें!

1.गर्भपात: आपको दिन में 10 ग्राम से ज़्यादा केसर नहीं लेना चाहिए। ज़्यादा ही केसर लेने से आपके शरीर का तापमान बढ़ता है और आपको गर्भपात होने का खतरा रहता है। आपको केसर लेने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

2.एलर्जी: जो लोग केसर से एलर्जी रखते हैं, उन्हें प्रेगनेंसी में इसके इस्तेमाल से जी मिचलने की समस्या हो सकती है, आपको सर में दर्द हो सकता है और सुन्नता आ सकती है। इन सभी स्थिति में आपको केसर तुरंत लेना बंद कर देना चाहिए।

3.उल्टी: हमें सभी बड़े लोग कहते हैं की किसी भी चीज़ की अति सही नहीं होती, वैसे ही आपको केसर के ज़्यादा इस्तेमाल से उल्टी हो सकती है।

नीचे दी गई किसी भी स्थिति में तुरंत डॉक्टर को फोन करें

नाक से खून आना, होंठ से खून निकलना

सुन्नता

पेशाब में खून, या मल में खून

बैलेन्स नहीं बना सकना, या चक्कर आना या अंधेरा होना

पीलिया

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।