प्रेगनेंसी के समय डाइटिंग करने से आपके बच्चे पर असर पड़ सकता है! सही प्रकार के आहार का मूल्य प्रेगनेंसी में और बढ़ जाता है

ऐसा कई बार होता है की कई महिलाएं प्रेगनेंसी में अपने बढ़ते हुए वज़न की वजह से टेंशन में आ जाती हैं, इस वजह से वो खाना कम लेना शुरू कर देती हैं। लेकिन ये ऐसा करने का सही समय नहीं है। इस समय आपके बच्चे को काफी पोषण की ज़रूरत होती है। प्रेगनेंसी के समय डाइटिंग करना अच्छा आइडिया नहीं माना जाता है।

हालांकि कहा जाता है की जिन महिलाओं का वज़न प्रेगनेंसी में नॉर्मल होता है उनका वज़न 25-30 पाउंड बढ़ सकता है। जो महिलाएं कम वज़न वाली हैं उनका वज़न 28-40 पाउंड बढ़ सकता है। ये इस बात पर भी निर्भर करता है की प्रेगनेंसी से पहले आपका वज़न कितना रहा था। पहली तिमाही में सभी महिलाएं औसतन छह पाउंड वज़न बढ़ाती हैं।

स्वस्थ खाने से आपके बच्चे पर ये असर होंगे:

आपके बच्चे को इन्फ़ैकशन का खतरा नहीं होगा

इससे प्रेगनेंसी से जुड़ी दिक्कत कम होने का खतरा होगा

इससे बच्चे का वज़न भी अच्छा होगा

अगर आप अपनी पहली तिमाही में कुछ ज़्यादा ही वज़न बढ़ा रही हैं तो इस बारे में ज़्यादा टेंशन न लें, जब तक आपको अच्छे पोषण मिल रहे हैं तब तक आप अपना वज़न सही से बढ़ा सकती हैं। डाइटिंग करने से आपके शरीर के चयपचय की दर कम होगी। इस बात का ध्यान रखें की आप सही प्रकार से पोषण ले रही हों। नियमित एक्सर्साइज़ करने से आप अपने वज़न को दूसरी तिमाही में सही रख सकती हैं।

आप प्रेगनेंसी में इस आहार को फॉलो कर सकती हैं:

फल और सब्जी: इस समय आपको सब्जी और फल लेना ही है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें कई प्रकार के विटामिन और पोषण होते हैं। प्रेगनेंट महिला को दिन में 70 मिलीग्राम विटामिन सी लेना चाहिए, वो विटामिन सी जो आपको संतरों और टमाटर में मिल सकता है।

कार्बोहाइड्रेट: इस समय आपको कार्बोहाइड्रेट से भरपूर ब्रेड और अनाज का भरपूर सेवन करना चाहिए। इसमें आइरन और फाइबर काफी भरपूर होता है। आपको दिन। में 6-11 ब्रेड और अनाज की सर्विंग लेनी चाहिए।

दूध के उत्पाद: इस समय कैल्सियम लेना काफी अहम है। आपको इस समय दिन में 1000 एमजी कैल्सियम लेना चाहिए क्योंकि बच्चे को किसी भी कमी से दूर रहने के लिए इतने कैल्सियम की ज़रूरत पड़ती है। दूध, पनीर, योगर्ट और पुडिंग इसका अच्छा स्त्रोत है।

इसलिए आपको प्रेगनेंसी में अपने आहार को लेकर काफी सजग रहने की ज़रूरत है, क्योंकि आपके बच्चे को उससे पोषण मिलेगा जो आप खाएँगी।