प्रेगनेंसी में आपके आहार में आइरन का महत्व

Iron during pregnancy

आपको प्रेगनेंसी में आइरन की ज़रूरत क्यों है?

गर्भवती होने से पहले ही आपके शरीर को आइरन यानी लौह पदार्थ की ज़रुरत पड़ती है, इनके कई कारण हैं:

इससे हीमोग्लोबिन बनता है, और लाल रक्त कोशिका में प्रोटीन बनता है, वो कोशिका जो अन्य कोशिका में ऑक्सिजन ले जाती है।

यह मायोग्लोबिन का मुख्य घटक है, एक ऐसा प्रोटीन जो मासपेशियों में ऑक्सिजन ले जाता है, यह कोलेजन का भी मुख्य घटक है एक ऐसा प्रोटीन जो हड्डियों में मुख्य प्रोटीन है।

इससे प्रतिरोधक तंत्र अच्छा रहता है।

लेकिन प्रेगनेंसी में आइरन की ज़रूरत कुछ ज़्यादा ही बढ़ जाती है, नीचे इसके कारण हैं:

आपके शरीर में प्रेगनेंसी के दौरान आमतौर से 50 प्रतिशत ज़्यादा खून बनता है। इसी वजह से ज़्यादा हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आपको ज़्यादा आइरन की ज़रूरत पड़ती है।

आपको अपने बढ़ते हुए बच्चे और गर्भनाल के लिए अतिरिक्त आइरन की ज़रूरत पड़ती है, खासकर तीसरी तिमाही में कुछ ज़्यादा ही।

कुछ महिलाओं को इस समय ज़्यादा आइरन की ज़रूरत इसलिए पड़ती है क्योंकि उनमें प्रेगनेंसी से पहले आइरन की कमी होती है।

आइरन की कमी से होने वाला एनीमिया से प्रेगनेंसी में बच्चे समय से पूर्व पैदा होते हैं, उनका वज़न कम होता है और मौतें भी ज़्यादा होती हैं।

आपको कितने आइरन की ज़रूरत है?

गर्भवती महिला: 27 मिलीग्राम आइरन हर दिन

महिलाएं जो गर्भवती नहीं हैं: 18 मिलीग्राम

आपको हर दिन उतना आइरन नहीं लेना पड़ेगा जितने के लिए आपको सलाह डिगाई है। इसकी जगह आप हर दिन या हफ्ते में उतना आइरन लें जो औसत से थोड़ा ऊपर हो।