अच्छा खाइए और आपको ये 4 साल जैसी बच्ची हो सकती है!!

 

एक प्यारी बच्ची ने अपनी खुद की मेकअप क्लास देना शुरू कर दिया। देखिए जीजी अपनी माँ की थोड़ी मदद से अपने इस टैलंट के अंदर हमें ले गई।

इन अच्छे पोषक तत्वों को लें और अपने बच्चे को शार्प बनाइए। ये सभी खाने स्वस्थ और टेस्टी भी होते हैं।

गर्भ धारण के 3 महीने बाद ही आपके बच्चे के दिमाग का विकास होना पड़ता है और आपके खाए गए खाने से इस पर असर पड़ता है। आपके बच्चे के दिमाग में 24 से 40 हफ्तों के बीच काफी बदलाव होता है, जिसमें 34वें हफ्ते के बाद इसका प्रयाप्त विकास होता है।

इसके विकास के लिए कई प्रकार के पोषक पदार्थ लेने की ज़रूरत होती है, इसलिए जितना हो सके उतना अलग प्रकार का खाना खाएं। हालांकि कुछ खाने प्रेगनेंसी में काफी अच्छे होते हैं, और आपको वो आसानी से मिल भी जाते हैं।

ग्रीक योगर्ट- काफी पोषक: आयोडीन

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन ने आगाह किया है की प्रेगनेंसी में आयोडीन की कमी होने से रोकी जाने वाली दिमाग की परेशानी होती हैं। सभी योगर्ट में आयोडीन अच्छी तरह से होती है। ग्रीक योगर्ट में अच्छा प्रोटीन होता है और बच्चे के कम वज़न की समस्या भी रुकती है।

आपको क्या ज़ररत है

140 माइक्रोग्राम आयोडीन दिन में लेना चाहिए। एक 150 ग्राम योगर्ट से 50-100 माइक्रोग्राम आयोडीन मिलती है। ब्रेकफ़ास्ट में मूँगफली और शहद ज़रूर जोड़ें।

मसूर-काफी पोषक: आइरन यानी लौह पदार्थ

आइरन से दिमाग के रसायन बनने में मदद होती है और इससे माइलीन बनती है, जो दिमाग तक सही और लगातार संदेश पहुंचाने के लिए काफी ज़रूरी है। कम आइरन से दिमाग का कम विकास होता है।

आप क्या चाहिए

14.8mg आइरन हर दिन। मसूर से 6.6mg आइरन मिलता है। मसूर को विटामिन सी के साथ लेने से शरीर में आइरन की मात्रा बढ़ती है, इसलिए काली मिर्च को गोभी या टमाटर के साथ मसूर के सूप में मिलाइए।

पालक-काफी अच्छा पोषक तत्व: फोलेट

आपके बच्चे को पालक में मौजूद नैचुरल फोलेट की नए DNA बनाने और मेटाबोलिस्म को नियमित करने के लिए फॉलिक एसिड के साथ ज़रूरत होती है। पालक में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स से आपके बच्चे के दिमाग के ऊतक का नुकसान होने से बचाव होता है।

आपको ज़रूरत है

400 माइक्रोग्राम फोलेट हर दिन। 80ग्राम पालक के कच्चे भाग से 154 माइक्रोग्राम, और 180 पके हुए पालक से 262.8 माइक्रोग्राम फोलेट मिलता है। कम पकाने से फोलेट को सोखने में मदद मिलती है, बस ध्यान रखें की ये ज़्यादा ना पक जाए। सब्जी की खिचड़ी में आखरी समय में पालक डालने से अहम पोषक तत्व मिलते हैं।

अंडे-अच्छा पोषक: कोलीन

अंडा आइरन और प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है, जो दिमाग के विकास के लिए काफी अहम है। इनमें काफी मात्रा में कोलीन होता है, जो सीखने और याद रखने के लिए अहम है।

आपको क्या ज़रूरत है

450 माइक्रोग्राम कोलीन एक दिन में। सबसे बड़ा स्त्रोत अंडे की ज़र्दी है। एक अच्छी तरह से उबला अंडा 113mg कोलीन रखता है। एक उबले अंडे को मिश्रित पत्तों के शलाद में डालें।

मूँगफली-अच्छा पोषक: विटामिन ई

प्रेगनेंसी के समय मूँगफली काफी अच्छा स्नैक होता है, इसमें प्रोटीन, मोनोसैचुरेटेड फैट, नियासिन और फोलेट होता है। मूँगफली में मौजूद विटामिन ई DHA को सपोर्ट मिलता है और और दिमाग कोशिका की झिल्ली का भी बचाव होता है। बिना नमक वाले भुने हुई मूँगफली या नैचुरल मूँगफली लें।

आपको क्या ज़रूरत है

3mg विटामिन ई डेली। बिना तेल के मूँगफली खाने से सही मात्रा में पोषण मिलता है। ओटकेक के ऊपर नैचुरल पीनट बटर डालने से टेसी स्नैक बनता है।

एवोकेडो-अच्छा पोषक: मोनाउनसेचूरेटेड फैटी एसिड

फैट यानी वसा से दिमाग का 60% विकास होता है। एवोकेडो में ओलेइक एसिड की अच्छा मात्रा होती है जिससे माइलीन बनती और मेंटेन रहती है, और इससे सुरक्षा परत बन जाती है जो तंत्रिका तंत्र का बचाव करती हैं।

आपको क्या ज़रूरत है

25-35% केलोरी जो हमें चाहिए होती हैं वो फैट से आती हैं, या यूं कहें मोनाउसेचूरेटेड फैट से। चीलें और सलाद में जोड़ें या सैंडविच में। आप तीन एवेकेडो को एक टमाटर, एक प्याज़ और नींबू के जूस में फेंट सकती हैं, जिससे आपको अच्छा द्रव मिलेगा।

प्रेगनेंसी के इन बेहतरीन खाने से ना सिर्फ आपको अच्छा पोषण मिलेगा बल्कि इससे आपका बच्चा और भी बुद्धिमान बनेगा।