अधिक वज़न होने से आपकी डिलिवरी के ऑपरेशन से होने खतरे बढ़ते हैं: बीएमआई से अपनी प्रेगनेंसी पर नज़र रखें

प्रेगनेंसी में वज़न बढ़ाना काफी आम है, लेकिन कितना वज़न बढ़ाना है यदि आपको ये पता होगा तो आपकी प्रेगनेंसी स्वस्थ होगी और ऐसा करने से आप गर्भावस्था की डायब्टीस, प्रीक्लेमसिया और ऑपरेशन वाली डिलिवरी से भी बच सकती हैं।

सबसे अहम बात है आपका समझना की आपका प्रेगनेंसी में कितना वज़न बढ़ना चाहिए, ये आपके प्रेगनेंसी से पहले के वज़न, आप किस तिमाही में हैं और आपके पेट में कितने बच्चे हैं इस बात पर निर्भर करता है। ये बस सलाह वाली बात है असली बात इसपर निर्भर करती है की आपके हार्मोन्स कैसे रिएक्ट करते हैं। जो महिलाएं शुरू की तिमाही में ज़्यादा वज़न बढ़ाती हैं वो बाद में कम बढ़ाती हैं और जो बाद में बढ़ाती हैं वो शुरू में नहीं बढ़ाती हैं। आसानी के लिए नीचे दी गई बात को समझें:

बीएमआई<18.5

जिन महिलाओं का वज़न कम है यानि जिनका बीएमआई 18.5 से कम है उन्हें पूरी प्रेगनेंसी में 12 से 18 किलो वज़न बढ़ाना चाहिए, जैसे-

पहली तिमाही- आधा किलो से दो किलो

दूसरी तिमाही में आधा किलो हर हफ्ते

तीसरी तिमाही में आधा किलो हर हफ्ते

18.5 <बीएमआई <24.9

जिन महिलाओं का बीएमआई 18.5 से 24.9 तक होता है उन्हें पूरी प्रेगनेंसी में 10 से 16 किलो वज़न बढ़ाना चाहिए

पहली तिमाही में आधा किलो से 2 किलो

दूसरी तिमाही में आधा किलो से 1 किलो

तीसरी तिमाही में आधा किलो से 1 किलो

25 से 29.9 बीएमआई वाली महिला

अधिक वज़न वाली यानि बीएमआई 25 से लेकर 29.9 महिलाओं को पूरी प्रेगनेंसी में 6 से 11 किलो वज़न बढ़ाना चाहिए

पहली तिमाही में लगभग 2 किलो

दूसरी तिमाही में 1 से डेढ़ किलो एक महीने में

तीसरी तिमाही में 1 से डेढ़ किलो एक महीने में

30 बीएमआई से ज़्यादा वाली महिलाएं

जो महिलाएं मोटापे की बीमारी से जूझ रही हैं यानि जिनका बीएमआई 30 से ज़्यादा है उन्हें बस 5 से 9 किलो वज़न बढ़ाना चाहिए। लगभग आधा किलो हर महीने।

याद रखें की हर दिन वज़न नापने से आपको बार-बार टेंशन ही होगी। आप किसी आहार विशेज्ञ से मिलकर अपने वज़न को संभाल सकते हैं, जिसमें आपको अच्छा खाना लेना होगा और सही प्रकार से एक्सर्साइज़ करनी होगी। कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी में वज़न भी कम करती हैं, खासकर वो महिलाएं जिनका बीएमआई प्रेगनेंसी से पहले 28 या इससे ज़्यादा रहता है। ये समय आपका सबसे सुंदर सफर बनने वाला है, इसलिए बढ़ते हुए वज़न के बारे में ज़्यादा चिंता ना करें।