प्रेगनेंसी में योगा- प्राणायाम

इस आर्टिक्ल में चलिए योगा के अहम पहलू के बारे में बात करते हैं- प्राणायाम

योगा में सांस लेना(प्राणायाम)

प्राणायाम क्या है?

प्राणायाम, नियंत्रित गहन सांस लेने का एक रूप है। इसमें ऑक्सिजन अंदर ली जाती है जिससे हमारी शरीर का फंक्शन सही से होता है। इसमें कार्बन डाइऑक्साइड बाहर छोड़ते हैं जिसकी शरीर को कोई ज़रूरत नहीं होती है। लंबी सांस लेना एक दम से सांस लेने से काफी फायदेमंद है। इससे आपके बच्चे और आपको फायदा होता है।

प्रेगनेंसी में प्राणायाम किया जा सकता है?

प्रेगनेंसी में प्राणायाम करना आमतौर सुरक्षित माना जाता है। हालांकि कुछ भी शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें। प्रेगनेंसी में आपको गहरी और ज़ोर से सांस नहीं लेनी चाहिए। प्रेगनेंसी में योगा एक्सपर्ट आपको अपनी सांस रोकने की सलाह नहीं देते हैं। इसलिए प्रेगनेंसी में भस्त्रिका और कपालभारती नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि ज़ोर से सांस लेने पर आपको चक्कर आ सकते हैं। अगर आपको दमे या कोई भी दिल की बीमारी हो तो प्राणायाम करने से पहले डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।

प्राणायाम से मुझे कैसे फायदा होगा?

  • प्राणायाम में आपकी सांस लेने की जागरूकता विकसित होती है। इससे आपकी सांस संयमित होती है और बेहतर भी। प्राणायाम में नीचे दिए गए फायदे हैं:
  • इससे शरीर के अवशिष्ट पदार्थ बाहर निकलते हैं।
  • इससे खून का संचार अच्छा होता है, जो आपके बच्चे और आपके लिए अच्छा है।
  • इससे तनाव कम होता है, और आप रिलेक्स होती हैं।
  • इससे शरीर में ऑक्सिजन का बहाव बढ़ता है।
  • इससे आप प्रसव के लिए तैयार होती हैं, और आपका ध्यान दर्द से हट सकता है। जब शरीर डरता है तो इसमें एड्रेनालाईन बनते हैं, और इससे ऑक्सीटोसिन नहीं बनते, ये एक ऐसा हार्मोन है जो प्रसव में मदद करता है। प्राणायाम से आप शांत होती हैं और डर भी कम होता है। यह आपके ऊर्जा को प्रसव के सबसे ज़रूरी समय के लिए बचाता है।

प्राणायाम घर में हो सकता है?

हाँ, हो सकता है। लेकिन अगर आपने अभी इसे सीखना शुरू किया है तो अच्छा है की आप किसी एक्सपर्ट से इसे सीखें। योगा क्लास जॉइन करना भी इन तीन कारणों से अच्छा है:

  • आप अनुकूल माहौल में कई और प्रेगनेंट महिलाओं के साथ योगा करती हैं।
  • क्लास में बाकी लोगों को देखकर आपको प्रेरणा मिलती रहेगी।
  • आप नए दोस्त भी बना सकती हैं।

प्रणाम करने के तरीके

  • प्रणाम करने से दो घंटे पहले हल्का खाना लें।
  • आपके मेन खाने के बाद इसे शुरू करने से पहले 3-4 घंटे इंतज़ार करें।
  • इसके लिए शांत और आरामदायक जगह चुनें। एक हवादार कमरा या पार्क इसके लिए बेस्ट है।
  • उन मुद्राओं को करें जो आपके योगा एक्सपर्ट ने आपको बताई हों।