क्या प्रेगनेंसी के समय मैं एक्सर्साइज़ जारी रख सकती हूँ?

एक आम सा नियम है की अगर आप प्रेगनेंसी से पहले फिट और स्वस्थ थी तो आप अपनी एक्सर्साइज़ को जारी रख सकती हैं, बस आपको इसमें थोड़े बदलाव करने होंगे। वैसे यही सलाह दी जाती है की आपको कुछ भी शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर या फिज़ियोथेरेपिस्ट से बात करनी चाहिए। वो आपको कुछ ऐसी एक्सर्साइज़ बता सकते हैं जो आपके बच्चे और आपके लिए अच्छी होंगी।

टहलना एक ऐसी एक्सर्साइज़ है जिसे करने की सलाह डॉक्टर हमेशा देते हैं। इसके कुछ कारण भी हैं-यह काफी सिम्पल है, यह हम हर दिन करते हैं, और इसमें ज़्यादा मेहनत भी नहीं करनी होती है। इसके साथ टहलने के अपने कुछ फायदे हैं। आप हमारा प्रेगनेंसी वॉकिंग प्लेन देखकर शुरुआत कर सकती हैं।

अगर आप एरोबिक्स प्रेगनेंसी से पहले कर रही थी तो आपको सलाह दी जाती है की आप इसे थोड़ा कम असर वाला करें। कारण यह है की प्रेगनेंसी में आप आमतौर पर ज़्यादा ऑक्सिजन लेती हैं। इसलिए एक्सर्साइज़ करते हुए इस्तेमाल के लिए कम ऑक्सिजन मौजूद होगी। इस बात का भी ध्यान रखें की एक्सर्साइज़ करते हुए आपके दिल की और सांस की गति बढ़ जाती है। यह काफी आम बात है, चिंता ना करें। यह भी दिमाग में रखें की आप प्रेगनेंसी में कम असर वाली एक्सर्साइज़ करें, यहाँ तक की तब भी अगर आप प्रेगनेंसी से पहले पूरी फिट थी। कम असर वाले एरोबिक्स का मतलब है की आपका एक पाँव हर समय ज़मीन पर होना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ज़्यादा गहन एरोबिक्स जैसे दौड़ना, कूदना, ट्विस्टिंग, हॉपिंग से आपकी मसल, जोड़ों और कोख पर तनाव पड़ता है।

अगर आप प्रेगनेंसी के पहले से वज़न उठा रही हैं तो आप ऐसा करना जारी रख सकती हैं, इसे करने से पहले भी आपको अपने डॉक्टर और फिजियोथेरेपिस्ट की सलाह लेनी ज़रूरी है, उसके अलावा आपको ज़्यादा भारी वज़न भी नहीं उठाना है। आपका मकसद इस समय अपनी मसल की मजबूती पर होना चाहिए, बॉडी बनाने पर नहीं। और ऐसा कम वज़न से किया जा सकता है।

इसलिए कम वज़न के साथ ज़्यादा बार वेट उठाना, ज़्यादा वज़न के वेट को कम बार उठाने से अच्छा है। वज़न यानी वेट उठाते हुए आपको काफी थकान लगेगी, और यह आम बात है। बस इस चीज़ का ध्यान रखें की वज़न बार-बार उठाने से पहले थोड़ा ब्रेक ज़रूर लें। प्रेगनेंसी के अंत में आपको सलाह दी जाती है की आप अपने प्लेन को अपने डॉक्टर या फिजियोथेरेपिस्ट से डिस्कस करें।

प्रेगनेंसी में एक्सर्साइज़ करने के आम तरीके

  • एक्सर्साइज़ करते हुए अपनी सांस नहीं रोकें
  • थकान होने पर ब्रेक ज़रूर लें
  • आपका लक्ष्य है अपनी फिटनेस को मैंटेन करना, सबसे बेहतरीन परफॉर्मेंस करना नहीं
  • ढंग से खाना काफी अहम है, क्योंकि एक्सर्साइज़ करने से आप काफी कैलोरी खोती हैं। इसलिए साबुत अनाज से बना खाना खाएं अगर आप काफी एक्सर्साइज़ करती हैं
  • बैड पर सीधे ना लेटें या एक जगह ज़्यादा दे तक खड़े ना हों, खासकर 16वें महीने के बाद। ऐसा करने से आप प्रेगनेंसी में में कोख तक कम खून पहुंचा पाएँगी, और इससे फिर आपको चक्कर आएंगे
  • द्रव काफी मात्रा में लें, जैसे पानी, और नारियल पानी। हल्के और आरामदायक कपड़े पहनें