प्रेगनेंसी में कब एक्सर्साइज़ नहीं करनी चाहिए?

when not to exercise during pregnancy

कभी-कभी प्रेगनेंसी में आपकी और आपके बच्चे के स्वास्थ के लिए एक्सर्साइज़ करना बिलकुल मना होता है। कोई भी एक्सर्साइज़ शुरू करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

प्रेगनेंसी में कब एक्सर्साइज़ नहीं करनी चाहिए

अमेरिका के बड़े मेडिकल संस्थान एसीओजी के अनुसार प्रेगनेंसी में आपको निम्न समस्या होने पर एरोबिक्स एक्सर्साइज़ नहीं करनी चाहिए:

यदि आपको फेफड़े या दिल की बीमारी हो

सर्वाइकर अपर्याप्तता या सरक्लेज़

यदि आपके पेट में एक से ज़्यादा बच्चे हों, और बच्चे पहले पैदा हो सकते हैं

दूसरी और तीसरी तिमाही में लगातार खून निकलना

यदि आपकी गर्भनाल गर्भाशय में नीचे की ओर है, वो 26वें हफ्ते बाद

मौजूदा प्रेगनेंसी में समय से पूर्व प्रसव

आपकी पानी की थैली टूट गई हो

प्रीक्लेम्सिया या गर्भावस्था का तनाव

गंभीर एनीमिया

अच्छी मेडिकल मदद के साथ आप कई एक्सर्साइज़ कर सकती हैं। अपने डॉक्टर से अपने लिए सबसे अच्छी एक्सर्साइज़ के बारे में जानें।

एक्सर्साइज़ करने पहले किस अवस्था में अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए

कुछ अन्य कंडिशन होने की वजह से आपको सावधानी से एक्सर्साइज़ करने की ज़रूरत है। अपने ट्रेनर या डॉक्टर से नीचे दी गई कंडिशन होने पर कैसे एक्सर्साइज़ करें इस बारे में सलाह मांगे:

एनीमिया

दिल की धड़कन नियमित नहीं होना

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस

टाइप 1 डायब्टीस होना

ब्लड प्रैशर जिसका सही प्रकार से इलाज़ नहीं हुआ हो

ज़्यादा वज़न होना या मोटापा

हड्डी या जोड़ की चोट या हड्डी की और कोई समस्या

धूम्रपान का बुरा इतिहास

स्वास्थ से जुड़ी समस्या के संकेत या प्रेगनेंसी की समस्या

यदि आपके डॉक्टर आपको एक्सर्साइज़ करने की सलाह दे भी देते हैं तब भी आपको एक्सर्साइज़ करते हुए कई बातों के संकेत देखने हैं। आपको नीचे दी गई कोई भी बात दिखती है तो तुरंत एक्सर्साइज़ करना रोक दें:

बच्चे का कम हिलना

चक्कर आना या मूर्छित होने जैसा लगना

सर में दर्द

दिल में घबराहट होना

पैर में दर्द या सूजन

योनी से खून निकलना

छाती में दर्द

पेट में दर्द होना या मरोड़े

योनी से ज़्यादा ही द्रव निकलना

सांस लेने में दिक्कत होना

प्रेगनेंसी(गर्भावस्था) से जुड़ी और जानकारी लेने के लिए कृपया हमारी एप यहाँ डाउनलोड करें।