एक्सर्साइज़ करते हुए किस समय मेडिकल मदद लेनी चाहिए?

Medical help during exercising

एक्सर्साइज़ करना और योगा करना प्रेगनेंसी में आपके लिए काफी अच्छा है। योगा के काफी शारीरिक और मानसिक फायदे होते हैं। अगर आप अभी शुरुआत कर रही हैं तो प्रेगनेंसी योगा गाइड को ज़रूर देखें।

हर प्रेगनेंसी अलग होती है और आपके डॉक्टर या एक्सपर्ट आपकी ज़रूरत के अनुसार आपको एक्सर्साइज़ के प्लेन बताते हैं। इन एक्सर्साइज़ और योगा से आपका पूरा शरीर स्वस्थ रहता है। हालांकि कभी-कभी आपको एक्सर्साइज़ करने के बाद थोड़ी कमजोरी लग सकती है। इसका मतलब है की सब सही नहीं है और आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

इसके अलावा अगर आपको नीचे दिए कोई लक्षण दिख रहे हैं तो आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए। अगर आपके डॉक्टर आपको तुरंत नहीं मिल सकते हैं तो आपको पास के किसी हॉस्पिटल में जाकर मेडिकल चैकअप करवाना चाहिए। जहां तक हो अकेले में कोई ज़्यादा मुश्किल एक्सर्साइज़ ना करें।

एक्सर्साइज़ करते हुए आपको कब मेडिकल मदद की ज़रूरत है इस बारे में जानना आपके लिए सबसे अहम है।

दिखने में दिक्कत

अगर धुंधला दिख रहा है तो इसका मतलब आपमें पानी की कमी हो सकती है, और लो ब्लड प्रैशर या इक्लेम्पसिया हो सकता है। इन सब चीजों से बचने के लिए सलाह दी जाती है की आप किसी भी एक्सर्साइज़ करने से पहले हल्का खाना खाएं। इसके साथ एक्सर्साइज़ करते हुए और उससे पहले भी पानी की कमी ना होने दें।

जब आपमें पानी की कमी होती है तो इससे आपका ब्लड प्रैशर भी कम हो जाता है। इसकी वजह से आपके दिल को बच्चे तक खून का संचार करने के लिए काफी कड़ी मेहनत करनी होती है।

योनी से द्रव निकलना

योनी से द्रव निकलने का मतलब है हो सकता है की आपकी पानी की थैली टूट गई हो। इसका मतलब बच्चे के आस-पास से कुछ द्रव बाहर निकल रहा है। जहां इसका मतलब है की आपका प्रसव पास आ रहा है, वहीं कई और बार भी ऐसा होता है।

बेहोश होना

बेहोश कई वजह से हुआ जा सकता है। यह पानी की कमी से हो सकता है, कम ब्लड प्रैशर की वजह से हो सकता है, थकान और कम ब्लड शुगर की वजह से भी हो सकता है। इसका मतलब है की आपको और बच्चे को प्रयाप्त ऑक्सिजन नहीं मिल रही है। मतलब आपको अपनी जांच करवानी चाहिए। अपने डॉक्टर या फिटनेस एक्सपर्ट से मिलकर आप अपने फिटनेस प्लेन में ज़रूरी बदलाव भी करें।

पिंडली में दर्द

पिंडली में दर्द, लालपन, और सूजन का मतलब है की आपकी पिंडली में खून का थक्का बन गया है। इसे चैक करवा लें, ताकी ये आपके दिमाग और फेफड़ों तक ना पहुंचे। यह काफी नुकसानदेह हो सकता है, और इस स्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।

योनी से खून निकलना

गर्भावस्था की शुरुआत में योनी से खून निकलने का मतलब गर्भपात हो सकता है। दूसरे और तीसरी तिमाही में इसका मतलब समय से पूर्व प्रसव, गर्भनाल का टूटना और प्लेसेन्टा प्रीविया हो सकता है। किसी भी अवस्था में योनी से खून निकलना एक एमर्जन्सि मानी जाती है और आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।

पेट में दर्द

लिगमेंट के खिचने की वजह से आपके पेट में दर्द हो सकता है। लेकिन इसका मतलब यह भी है की आपको मरोड़े हो सकते है। अगर दर्द जारी रहे तो अपने डॉक्टर से मिलें। वो देखेंगे की आप प्रसव दर्द में हैं या नहीं। तीसरी तिमाही में ब्रेकस्टन हिक्स मरोड़े हो सकते हैं। आराम करने पर यह सही हो जाते हैं। अगर यह दुबारा हो तो जांच करवाएँ।

बच्चे की गतिविधि में बदलाव

आपके डॉक्टर ने आपको बच्चे की गतिविधि पर नज़र रखने के लिए कहा होगा। थोड़े-बहुत बदलाव होना आम है, खासकर प्रेगनेंसी के अंतिम समय पर, जब आपके बच्चे को हिलने के लिए कम जगह मिलती है। हालांकि किसी भी अजीब बदलाव पर इसकी जांच होनी चाहिए। डॉक्टर अल्ट्रासाउंड करवाकर आपके बच्चे की स्वस्थ होने की पुष्टि कर सकते हैं।