जन्म के समय बच्चे का वज़न कम होना-किस वजह से ऐसा होता है?

Low birth weight in newborns
kate evelyn pontius

जिन बच्चों का वज़न जन्म के समय ढाई किलों से कम होता है उन्हें कम वज़न वाला माना जाता है। ये बच्चे आकार में छोटे होते हैं और इनका सर इनके शरीर के अनुपात में बड़ा होता है। ऐसे बच्चे काफी पतले होते हैं और इनके शरीर में चर्बी काफी कम होती है। वैसे नॉर्मल बच्चे का जन्म प्रेगनेंसी के समय 3.6 किलो होना चाहिए।

कारण

समय से पूर्व जन्म: बच्चा अपने शरीर का ज़्यादा वज़न प्रेगनेंसी की अंतिम अवस्था में बढ़ाता है, इसलिए कम वज़न वाले बच्चे इसलिए कम वज़न वाले होते हैं क्योंकि उनका जन्म समय से पूर्व हो गया होता है। इसका मतलब होता है की बच्चे ने माँ की कोख में कम समय बिताया होता है, बच्चा 37वें हफ्ते से पहले पैदा हो जाता है और वो पेट के अंदर सही से बढ़ भी नहीं पाया।

अंतर-गर्भाशय वृद्धि अवरोध– प्रेगनेंसी में ये कम वज़न होने का एक और कारण है। ऐसा तब होता है जब बच्चा माँ के स्वास्थ या अपने स्वास्थ की वजह से सही से विकसित नहीं हो पाता, या गर्भनाल में दिक्कत की वजह से ऐसा होता है।

कम वज़न के अन्य कारण:

ब्लड प्रैशर अधिक होने से आपकी गर्भनाल में खून के संचार असर पड़ता है।

अगर आपके पेट में जुड़वा बच्चे हैं तो इन दोनों के वज़न कम हो सकते हैं, क्योंकि आमतौर पर जुड़वा बच्चे समय से पूर्व पैदा होते हैं, इन बच्चों को गर्भाशय में बढ़ने का समय भी सही से नहीं मिलता है।

प्रीक्लेम्सिया से आपके बच्चे में खून सही से नहीं पहुंचता है और इसकी वजह से आपके बच्चे में पोषण और ऑक्सिजन सही प्रकार से नहीं पहुँचती है। इसी वजह से बच्चे का विकास सही नहीं हो पाता।

यदि प्रेगनेंसी में आपको किसी प्रकार की कोई इमोश्नल दिक्कत है तो इससे भी बच्चे के विकास पर असर पड़ता है। इस समय आपको अपने परिवार या दोस्तों से मदद लेनी चाहिए, ऐसा करने से आपके बच्चे का विकास अच्छा हो सकता है।

इससे बच्चे पर असर क्या पड़ता है?

अलग अलग केस में दिक्कत अलग अलग होती हैं। जिन बच्चों का वज़न कम होता है उनमें से ज़्यादातर बच्चों को कोई दिक्कत नहीं होती। बच्चा परिवार की हिस्ट्री के कारण कम वज़न वाला हो सकता है।

हालांकि कम वज़न होने से कुछ बेसिक दिक्कत हो सकती हैं:

सांस लेने में दिक्कत

गरम रहने में दिक्कत होती है

ब्लड शुगर की दर निम्न रहती है

इन्फ़ैकशन का खतरा बढ़ता है

इसमें काफी लाल रक्त कोशिका उपस्थित रहती हैं, इससे आपके खून का संचार बढ़ सकता है।

ऐसा कहा जाता है की जिन बच्चों का जन्म के समय कम वज़न होता है वो कम बुद्धि वाले होते हैं, लेकिन ये सब इस बात पर निर्भर करता है की आपके बच्चे का वज़न जन्म के समय कितना कम था।

बच्चे की मदद कैसे की जाए?

अपने बच्चे के विकास के लिए डॉक्टर से मिलती रहें

बच्चे के वज़न पर लगातार नज़र रखें।

आप बच्चे को पोषण देकर उसके वज़न को सही कर सकते हैं

बच्चे को स्तन का दूध ज़रूर दें

इस समस्या को लेकर आप अपने डॉक्टर से ज़रूर बात करें। ये काफी गंभीर समस्या हो सकती है, लेकिन इससे बचाव भी हो सकता है।