10 गलतियाँ जो नए-नए माता-पिता करते हैं

mistakes new parents make

सभी माता-पिता गलती करते हैं। आपको इस बात पर यकीन नहीं होता है? अब अपने माता-पिता के बारे में सोचें, क्या हुआ हजारों गलती याद आ गई?

सच ये है की गलती सबसे होती है, खासकर नए पेरेंट्स से कुछ ज़्यादा ही, लेकिन आपको ये सबसे ज़्यादा की जाने वाली गलती के बारे में कुछ पता चला तो शायद आपको दोहराने की गलती नहीं करेंगे। नीचे इन गलतियों का उल्लेख है और उनसे कैसे बचें उसके उपाय भी।

गलती नंबर 1: सभी चीजों पर कुछ ज़्यादा ही टेंशन लेना

न्यू यॉर्क के एक बड़े डॉक्टर लियोन होफमन के अनुसार,”बच्चा जब उल्टी करता है, थूकता है या अन्य काम करता है तो कई नए पेरेंट कुछ ज़्यादा ही रिएक्ट कर जाते हैं, और बच्चा माहौल को भांप जाता है।

होफमन ने बताया कि माँ-बाप बच्चे का पहला साल बेकार चीजों के बारे में ज़्यादा सोचकर ही नष्ट कर सकते हैं। बच्चे के पेट में कुछ ज़्यादा ही गतिविधि हो रही है या कुछ ज़्यादा ही कम? बच्चा कुछ ज़्यादा ही थूक रहा है? बच्चा ठीक से खा रहा है या नहीं? बच्चा सही से रो रहा है या नहीं? क्या इनमें से कोई भी लक्षण आपको सुने हुए लगे? इन सब चिंताओं कि वजह से आप अपने बच्चे के पहले साल को सही से एंजॉय भी नहीं कर पाते।

गलती नंबर 2: बच्चे को ढंग से रोने नहीं देना

एक बड़ी नर्स जेनिफर वॉकर के अनुसार हम सोचते हैं कि बच्चे को ज़्यादा रोने नहीं देना ही अच्छा है। ऐसा हमको इसलिए लगता है कि क्योंकि हमारे अनुसार रोने का मतलब है कि बच्चे को कोई दिक्कत है। लेकिन जेनिफर के अनुसार बच्चे रोने के लिए ही बने होते हैं। बच्चे का पेट भरा हो सकता है फिर भी वो ऐसे रोएगा जैसे उसे कोई पीट रहा हो। इसी तरीके से बच्चा संपर्क करता है।

ज़्यादातर रोने का मतलब है बच्चा बस बच्चा होने का काम कर रहा है। लेकिन अगर बच्चा काफी देर से रो रहा है, और उसे उल्टी, बुखार या कोई और दिक्कत है तो अपने डॉक्टर से तुरंत बात करें। आप अपने बच्चे को सबसे अच्छी तरह समझते हैं। अगर आपको लगे कि सब ठीक नहीं है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

नंबर 3: बच्चे को दूध पिलाने के लिए उठाना

ज़्यादातर ऐसा होता है की बच्चा जब सोता है तब आप जागती हैं और जब वो जागता है तब आपके सोने के समय होता है। लोग बच्चे को नींद से उठाकर उसे दूध पिलाते हैं, लेकिन हम आपको बताना चाहेंगे की ऐसा करना सही नहीं है, बच्चा अगर सो रहा है मतलब उसे भूख नहीं लग रही है, जब उसे भूख लगती है तो वो अपने आप उठकर आपको भी दूध के लिए उठा देगा।

नंबर 4: कुछ उगलने को उल्टी समझना

कुछ उगलने और उतली में ये फर्क है की दोनों कब आती हैं। अगर आपका बच्चा 30-45 मिनट के बीच उल्टी कर रहा है तो उसके वाइरस द्वारा प्रभावित होने की संभावना हो सकती है। उगलने में बच्चा तब भी उगलता है जब वो कुछ खाता है। लेकिन उल्टी करने में बच्चा कुछ भी पेट में नहीं रख पाता है।

नंबर 5: बच्चे का पसीना नहीं निकालना मतलब उसे बुखार है

बच्चा अगर 3 महीने का है और उसे 100.4 डिग्री बुखार है तो ये एमर्जन्सि वाली स्थिति है। कभी-कभी बच्चे को थोड़ा बुखार हो सकता है जिसका मतलब हर समय कोई एमर्जन्सि नहीं होता।

कुछ माता-पिता लगता है की बच्चा वैसे ही गरम है और उसे वो घरेलू उपचार देने की कोशिश करते हैं, लेकिन ये गलती होती है। बच्चा अपने आप किसी भी इन्फ़ैकशन का इलाज़ नहीं कर सकता है। अगर आपके बच्चे को गर्मी लगती है तो उसका तापमान बार-बार लेते रहें। अगर तापमान 100.4 डिग्री से ऊपर है तो अपने डॉक्टर से तुरंत बात करें।

नंबर 6: सही तरीके से कार सीट ना लगाना

जो भी लोग नए-नए माँ-बाप बनते हैं उन्हें पता है की कार सीट लगाना कभी-कभी काफी मुश्किल हो जाता है। एक बार कार सीट लेने के बाद आप उस दुकान पर जाकर सीट को लगवाये जहां से आपने उसे लिया है। या उन लोगों से मदद लें जो लोग इसे बिना किसी दिक्कत के लगा लेते हैं।

नंबर 7: दाँत का ख्याल ना रखना

कुछ माता-पिता सोचने हैं की मुंह के लिए ज़्यादा क्या सोचना, और जब वो सोचते हैं तब काफी देर हो चुकी होती है। बच्चे के भले ही दाँत हो ना हों पर आपको उसके मुंह का खयाल काफी पहले से रखना है। आप नीचे दिए गए उपायों से अपने बच्चे के मुंह को सुरक्षित रख सकते हैं।

बच्चे के दाँत आने के साथ ही उसे बैड पर दूध मत दीजिए, इससे उसके दाँत में सड़न हो सकती है। और इससे बच्चे के अंदर काफी समस्या हो सकती है।

बच्चे के मसूड़ों को साफ करें, और एक साल होने के साथ ही आप उसको ब्रश की आदत पड़वाएँ

इस बात को भी देखें की आपके बच्चे को सही मात्रा में फ्लोराइड मिल रहा हो। फ्लोराइड पानी में मिलता है और इससे सड़न नहीं लगती। कुछ पानी में फ्लोराइड डाला जाता है, अगर आपके पानी में फ्लोराइड नहीं है तो अपने डॉक्टर से इसके लिए अच्छे से सप्लिमेंट पूछें।

गलती नंबर 8: अपनी शादी पर ध्यान ना देना

जब आपका पहला बच्चा हो उस समय आपका साथ रहना काफी अहम है, और इसका कोई और विकल्प नहीं है। आपके रिश्ते में कोई भी कमी बच्चे पर सीधा असर डाल सकती है। हाँ बच्चे पर ध्यान देना आपकी प्राथमिकता है पर आपको इस समय अपने आप पर भी ध्यान देने की ज़रूरत है। आपको ये देखना है की बच्चे का खयाल रखते-रखते कहीं आप अपने अहम पल ही ना भूल जाएँ।

गलती नंबर 9: बच्चे के सामने लड़ना, ज़्यादा या कम

3 महीने का बच्चा भी आपकी वाइब्स को समझ सकता है। वो समझ सकता है की आपके बीच में क्या चल रहा है। आप खुद से ही सवाल पूछें की ये लड़ाई ज़्यादा भयंकर तो नहीं हो रही है ना। ये भी नोटिस करें की आप कितनी बार कितनी देर के लिए लड़ रहे हैं। बार-बार थोड़ा लड़ना आजकल काफी आम हो गया है, लेकिन आप ये देखें की आपके झगड़े आखिर किस बात पर हो रहे हैं। हर चीज़ की आदत ना बनाएँ तो ही अच्छा है। बच्चे को हमेशा पता होता है की उसके पास क्या चल रहा है।

गलती नंबर 10: किसी की सलाह पर भी भरोसा करना

कई लोग बिना कुछ सोचे किसी से भी सलाह ले लेते हैं, और सबसे बड़ी बात वो उसे मानते भी हैं। ये गलती लगभग सही पेरेंट्स करते हैं। आपको सलाह दी जाती है की आप अपने बच्चे को लेकर सलाह काफी सतर्कता से लें। वैसे आपको कोई भी गलत सलाह नहीं देगा। लेकिन ये सोचना की सबकी सलाह ही आपके लिए बेस्ट है ये भी सही नहीं है। आपको सबकी बात सुनते हुए वही करना है जो आपके बच्चे के लिए सही है।