लानुगो क्या है?

Lanugo in Newborns

परिभाषा

आपको कभी अपने बच्चे में बड़े घुँघराले बाल और छोटे मुड़े हुए बाल देखे होंगे। लेकिन इन्सानों में बस इतने ही प्रकार के बाल नहीं होते हैं। एक अन्य प्रकार के बालों को लानुगो कहते हैं।

लानुगो वो बाल हैं जो नवजात के शरीर को ढके रहते हैं। यह बाल बच्चे के पूरे शरीर पर पाए जा सकते हैं, बस हथेली, होंठ और तलुओं को छोड़कर।

ज़्यादातर भ्रूण प्रेगनेंसी के चौथे या पांचवे महीने अपने शरीर में लानुगो का विकास करते हैं। लेकिन जन्म के समय ये बाल आमतौर पर गायब हो जाते हैं। ये बाल प्रेगनेंसी के आठवें या नौवें महीने में गायब हो जाते हैं, हालांकि कभी-कभी ये जन्म के हफ्ते बाद गिरते हैं। समय से पूर्व पैदा हुए बच्चे में लानुगो के होने की ज़्यादा संभावना होती है।

लानुगो का उद्देश्य क्या है?

बच्चा पेट में उस थैली में बढ़ता है जहां एम्निओटिक द्रव भरा होता है। इस द्रव से बच्चे को आराम मिलती है।

बच्चे की त्वचा चिपचिपे द्रव से ढकी होती है जिसे वर्निक्स कहते हैं, यह एम्निओटिक द्रव से त्वचा का बचाव करती है। वर्निक्स बच्चे की त्वचा को कोख में काटने से बचाती है, और लानुगो बच्चे की त्वचा का बचाव करती है, और वर्निक्स के लिए अपना काम आसान करती है।

लोगों में ये बाल वापिस क्यों आते हैं?

जब बच्चा लानुगो को कोख के अंदर या बाहर गिराता है, तो आमतौर पर ये बाल कभी वापस नहीं आते हैं, लेकिन कुछ केस में ये बाल वापस आ जाते हैं, जब किसी में पोषण की कमी होती है।

लानुगो से त्वचा और शरीर का बचाव होता है, इसलिए जो लोग कुपोषित होते हैं वो बाद में अपने चेहरे और शरीर पर ये बाल उगा सकते हैं। ये खाने की विकारता के कारण होता है जिसे एनोरेक्सिया नर्वोसा या बुलिमिया कहते हैं। जिनमें ये विकार होता है वो लोग खाना छोड़ देते हैं या खाना कम कर देते हैं, क्योंकि उन्हें डर लगता है की कहीं वो वज़न ना बढ़ा लें। जिन लोगों को ये दिक्कत होती है तो कम खाते हैं और जो खाते हैं उसे भी ज़बरदस्ती उल्टी में बाहर निकाल देते हैं, ताकि उनका वज़न सही रहे।

इन दोनों स्थिति से पोषण में कमी और शरीर में चर्बी की कमी हो जाती है। फिर लानुगो शरीर की रक्षा के लिए प्रकृतिक रूप से निकल जाते हैं। खाने में इस प्रकार की कमी से शरीर का तापमान बढ़ जाता है। जब शरीर में सही मात्रा में चर्बी नहीं होती तो शरीर सही प्रकार से गरम भी नहीं रह पाता है।

क्या लानुगो का इलाज़ करवाना ज़रूरी है?

नवजात बच्चे में अगर लानुगो है तो उसे उपचार की ज़रूरत नहीं है। तब भी जब बाल की संख्या काफी ज़्यादा हो, आपको ज़्यादा चिंता नहीं करनी है। बच्चा शुरुआती कुछ दिनों में अपने सारे बाल गिरा देगा।

जन्म के बाद बच्चे के शरीर को आराम से मालिश देंने पर ये बाल अपने आप चले जाते हैं। हालांकि मालिश से फर्क पड़ता है, लेकिन इसके भी कुछ रिस्क हैं। बच्चे की त्वचा काफी कोमल होती है, और अगर आप बच्चे की त्वचा को काफी तेज़ी से मसलेंगे तो उसकी त्वचा में दर्द हो सकता है, वो लाल हो सकती है और सुखी हो सकती है। इसलिए कहा जाता है की इन बालों को ऐसे ही रहने दिया जाए, और इनके अपने आप गिरने का इंतज़ार करें।

पोषण की कमी में सबसे पहले देखा जाता है की पोषण में कमी हो क्यों रही है, और फिर स्वास्थ की जांच होती है। अगर किसी का शरीर स्वस्थ नहीं है तो उसके लिए ये काफी खतरनाक हो सकता है, पर इसमें मदद हो सकती है। अगर आपमें खाने को लेकर कोई विकारता है तो अपने डॉक्टर से इस बारे में मदद लें। अगर आपको पता है की आपकी जानकारी में कोई इस समस्या से जूझ रहा है तो उन्हें मदद लेने के लिए प्रेरित करें।

नीचे दिए गए उपचार से इस समस्या में मदद होती है:

हॉस्पिटल में उपचार

सुझाव से उपचार

ऐसे समूह से आपको सपोर्ट करेंगे

पोषण लेने को लेकर सुझाव

दवाइयाँ

अंत में हम कह सकते हैं की बच्चों में लानुगो होना कोई चिंता का विषय नहीं है पर अगर आपको फिर भी कोई सवाल परेशान कर रहा है तो अपने डॉक्टर से इस बार में बात करें। बड़े लोगों में अगर लानुगो है तो उसका कारण खाने में विकारता है, और इसका इलाज़ तुरंत होना चाहिए।