प्रेगनेंसी में एयरलाइंस के नियम और यात्रा बीमा

Flying during pregnancy

कई प्रेगनेंट महिलाओं की तरह आप भी बच्चे के पैदा होने से पहले एक अच्छी सी यात्रा पर जाने की प्लैनिंग कर रही होंगी। ये गोवा की यात्रा, बैंकॉक का सफर, या स्विट्ज़रलैंड में एक रोमांटिक यात्रा भी हो सकती है। इसके अलावा आप बस रिलेक्स करने के लिए अपने माता-पिता के घर भी जा सकती हैं।

चाहे आपको कहीं भी जाना हो, बस ज़्यादा देरी ना करें। 28 हफ्ते पूरे होने के बाद जहाज़ में सफर करना काफी मुश्किल हो जाता है, क्योंकि ज़्यादातर कंपनी आपको यात्रा करने की अनुमति ही नहीं देती हैं, इसके लिए आपको डॉक्टर के पत्र की ज़रूरत पड़ती है।

क्या मैं प्रेगनेंसी में हवाई सफर कर सकती हूँ?

ज़्यादातर हवाई जहाज़ कंपनी 27 से 28 हफ्तों की गर्भवती महिलाओं को जहाज़ में उड़ने की अनुमति दे देती हैं। उसके बाद प्रसव की तिथि पास आने के साथ आपको अपने डॉक्टर के पत्र की ज़रूरत पड़ सकती है।

हर कंपनी के अपने नियम होते हैं, और वो अपने हिसाब से आपको मना भी कर सकते हैं। इसलिए आप फ्लाइट बुक करते हुए अपने एजेंट को बता दें की आप प्रेगनेंट हैं।

अगर आप टिकेट ऑनलाइन बुक कर रही हैं, और उस एयरलाइन कंपनी की वैबसाइट चेक करें। बार-बार पूछे गए सवालों में प्रेगनेंसी से जुड़े सवाल भी रहते हैं, वहाँ आपको अपने सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

इंटरनेशनल फ्लाइट में 35वें हफ्ते बाद आपको चलने की आज्ञा नहीं होती है, हालांकि घरेलू उड़ानों में नियम कुछ भी हो सकते हैं।

अगर आप थोड़े लंबे समय के लिए जा रही हैं तो देखें की आपकी यात्रा में कोई प्राइवेट फ्लाइट है या नहीं। उदाहरण के लिए कई जगह आपको मेन जगह जाने के लिए छोटे जहाजों की मदद लेनी पड़ती है। आपको अंत तक पता नहीं लगेगा की उनके क्या नियम हैं, इसलिए आपको पहले ही इसका पता कर लेना चाहिए।

क्या सभी कंपनी के एक से नियम होते हैं?

ज़्यादातर एयरलाइंस कंपनी के एक से नियम होते हैं। नीचे कुछ कंपनी के नियम

एयर इंडिया: आप यात्रा के लिए फिट हैं, इस आधार पर एयर इंडिया आपको 32 से 35वें हफ्ते तक यात्रा करने की अनुमति देती है। अगर आपको इससे ऊपर यात्रा करनी है तो एयर इंडिया के नियम काफी सख्त हैं, और आपको अपने साथ डॉक्टर भी ले जाना पड़ सकता है।

जेट एयरवेज़: ये कंपनी आपको 32वें हफ्ते तक यात्रा करने की अनुमति देती है। 33-36वें हफ्ते में यात्रा करने के लिए आपको डॉक्टर द्वारा फिटनेस प्रमाण पत्र लेने की ज़रूरत पड़ती है। 36वें हफ्ते बाद अगर आपको यात्रा करनी है तो आपको जेट एयरवेज़ के डॉक्टर से प्रमाण पत्र लेना होगा, साथ ही आपके साथ एक एमबीबीएस डॉक्टर भी होना चाहिए। जिन महिलाओं की प्रेगनेंसी थोड़ी रिस्क वाली होती है उन्हें 32वें हफ्ते तक यात्रा करने की अनुमति देती है, इस समय के लिए भी किसी को फिटनेस प्रमाण पत्र लेना ही पड़ेगा।

स्पाइस जेट: माँ बनने वाली महिलाओं को 35वें हफ्ते तक उड़ने की पर्मिशन देती है। 28-35 हफ्ते तक सभी गर्भवती महिलाओं के पास मेडिकल सर्टिफिकेट होना चाहिए।

इंडिगो एयरलाइन्स: ये कंपनी गर्भवती महिलाओं को केवल 32वें हफ्ते तक यात्रा करने की अनुमति देती है। यहाँ भी आपको उड़ने के लिए सर्टिफिकेट लेना पड़ता है।

अन्य इंटरनेशनल एयरलाइन्स जैसे ब्रिटिश एयरवेज़, लुफ़्थांसा और एमिरेस्ट्स के भी ऐसे ही नियम हैं। यात्रा करने से पहले आप अपने एजेंट या एयरलाइन्स से बात करें। कई एयरलाइन्स यात्रा करने वाली गर्भवती महिलाओं को एक फॉर्म भी भरवाती हैं।