lie down

गर्भावस्था यानी प्रेगनेंसी एक अच्छा सफर है, और ये ऐसी चीज़ है जिसके बारे में सब महिलाएं उत्सुक रहती हैं। लेकिन इसके साथ दर्द, और कई प्रकार की दिक्कत साथ आती हैं। ऐसा सब कुछ आपके बढ़ते हुए पेट की वजह से होता है। सोने की एक अच्छी पोज़िशन मिलना इस समय काफी मुश्किल है, इस समय नींद भी नहीं आती इसलिए आपकी बेचैनी और बढ़ सकती है, ऐसा कई महिलाओं ने महसूस किया है।

एक अच्छी नींद के लिए आप सोने से पहले इन तरीकों से फायदा पा सकती हैं। इससे आपको बेहतर नींद आ सकती है।

पहला स्टेप(कदम): नीचे लेटने की तैयारी

1.अपने पास 2-3 तकिया रखें

  • उनको इस तरह से रखें की आपको लेटने में दिक्कत ना हो। अपने पार्टनर की मदद भी लें
  • अगर आप अपने सर को ऊपर रखने के लिए तकिया लेती हैं तो घुटनों और पेट के नीचे तकिया रखे, इससे दबाव आपके पैर और पीठ से हटता है।
  1. लेटने से तुरंत पहले पानी ना पिएँ
  • प्रेगनेंसी में आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होनी चाहिए। हालांकि सोने से तुरंत पहले पानी पीने से बचें। इसकी वजह से आप रात में कई बार नहीं उठेंगी। एक नियम के तहत सोने से एक घंटे पहले पानी ना लें
  1. सोने से 2 घंटे पहले खाना खाएं
  • मसाले वाले खाने से होने वाली जलन से आपका बचाव होगा
  • अगर आपको लेटने के बाद सीने में जलन हो तो अपने सर के नीचे तकिया रखें। सर उठाने से आपका खाना सही तरीके से पचेगा।
  1. गद्दा अच्छा हो
  • अच्छी नींद के लिए आपका गद्दा काफी अच्छा होना चाहिए
  • अगर आपको मुलायम गद्दे में सोने की आदत है तो आप उसका इस्तेमाल कर सकती हैं। बस इस बात का खयाल रखें की जो भी गद्दा हो वो आरामदायक हो

दूसरा कदम- नीचे लेटने की पोज़िशन चुनना

1.आराम और ध्यान से लेटने की स्थिति में आएँ

  • अपने बैड के सर की तरफ बैठें। अपने शरीर को जितना हो सके पीछे रखें
  • धीरे से एक तरफ झुकें, इस समय हाथ का सहारा लें
  • अपने घुटने थोड़े से मोड़ें और उन्हे थोड़ा ऊपर की ओर खींचें

2.अपनी बाईं तरफ सोने की कोशिश करें

  • बाईं तरफ सोने से आपके शरीर में खून का संचार सही तरीके से होता है, और बढ़ते हुए बच्चे को अच्छे से पोषक तत्व और ऑक्सिजन भी मिलती है।
  • आराम के लिए आप अपने पाँव के बीच में तकिया रख सकती हैं, एक अपने पेट के नीचे और एक गर्दन के नीचे
  • जब भी आपको दिक्कत हो तो अपनी राइट साइड हो जाएँ

3.अलग तिमाही के लिए सलाह

अगर आपको आराम मिले तो आप पहली तिमाही में अपनी पीठ के बल हो सकती हैं। इसके लिए आप अपने पाँव के नीचे तकिया रख सकती हैं। हालांकि दूसरी तिमाही में अपनी पीठ पर ना सोएँ, इससे जी मिचलने और चक्कर की समस्या हो सकती हैं

पहली तिमाही के बाद कभी भी अपने पेट के बल ना सोएँ। बढ़े हुए पेट से ऐसा करना मुश्किल हो जाता है, और इससे बच्चे की सेहत पर फर्क पड़ सकता है

तीसरा कदम- लेटके ऊपर खड़ा उठना

1.दोनों में से किसी भी तरफ मुड़ें

  • अपने पाँव और घुटनों को बैड के कोने पर करें
  • अपने हाथ की मदद से बैठने की अवस्था में आएँ

2.खड़े होने से पहले सही से सांस लें

इससे जी मिचलने और चक्कर की समस्या नहीं होती। इससे पीठ के दर्द बढ्ने की संभावना भी कम होती है

  1. खड़े होने में किसी की मदद लें
  • आप इस बात का ध्यान रखें की आपके पति या फ़ैमिली के लोग आस-पास हों
  • किसी को भी अपने हाथों को पकड़ने और उठाने के लिए मदद मांगे