प्रेगनेंसी के दौरान बालों का उपचार

Hair colour during pregnancy

प्रेगनेंसी में बालों का उपचार: क्या ये उपचार सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी में बालों के उपचार से जुड़े सवाल काफी आम हैं। इन उपचार में आपको कई प्रकार के रसायन और रंग लेने पड़ते हैं, और इसी वजह से कई महिलाएं सोचती हैं की क्या ये उपचार सुरक्षित है?

कई प्रकार के उपचार में निम्न चीज़ें शामिल हैं:

बाल रंग करना: इसमें हमेशा बालों पर रंग रहता है, थोड़े समय के लिए रहता है।

बाल घुँघराले करना: यहाँ बालों पर दो सोल्यूशंस का इस्तेमाल होता है।

ब्लीचिंग: इसमें हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल होता है।

रिलेक्सर्स: इन्हें पर्म्स नाम से भी जानते हैं। इसमें या तो सोडियम हाइड्रोक्साइड या पॉटेश्यम, लिथियम, या गौनाइड हाइड्रोक्साइड होते हैं, इसमें बालों को हमेशा के लिए सीधा किया जाता है।

क्या बालों को रंगना और इसके रसायन प्रेगनेंसी में सुरक्षित हैं?

हालांकि आपको इनका इस्तेमाल कम करना चाहिए, लेकिन एक्सपर्ट मानते हैं की इसमें मिलने वाले रसायन से आपको नुकसान नहीं होता। वैसे कम से कम रसायन ही आपकी त्वचा के अंदर जाते हैं, और उससे भी आपके बच्चे को कोई नुकसान नहीं होता।

ये छोटी सी मात्रा बच्चे को नुकसान नहीं देती। ऐसा ही बच्चे को दूध पिलाते हुए माना जाता है। हालांकि बच्चों को दूध पिलाने वाली माँ के ऊपर अभी तक कोई भी डाटा उपलब्ध नहीं है, फिर भी ऐसा पता है की इससे अभी ज़्यादा नुकसान नहीं होता। इसलिए आपके बच्चे को कोई नुकसान हो, इसकी संभावना कम है।

हालांकि अगर आपको शंका हो तो नॉर्मल डाय का इस्तेमाल करना प्रेगनेंसी में सही है, इसके कुछ सुरक्षित विकल्प भी हैं। आप वैसे उस एरिया को रंग लगा सकती हैं जो सफ़ेद हो गया है, इससे कोई भी डाय आपके सर को टच नहीं कर पाती है, और आपको कोई रिस्क नहीं रहता है। इसी वजह से त्वचा कोई भी रसायन सोख नहीं पाती है। एक और विकल्प है और वो है एक दम सब्जी वाली डाय, यानि हिना। अगर आपको फिर भी प्रेगनेंसी में सर की डाय लगाने में संकोच हो रहा है तो आप अपने डॉक्टर से बात कर सकती हैं। कुछ डॉक्टर आपको दूसरी या तीसरी तिमाही से पहले कोई भी डाय इस्तेमाल करने की सलाह नहीं देते हैं, कुछ तो आपको कहेंगे की आप प्रेगनेंसी के बाद ही डाय करें।

बालों में रसायन वाली डाय लगाते वक़्त मुझे क्या सावधानी रखनी है?

आपको दूसरी तिमाही का इंतज़ार करना ही चाहिए।

आपको इस बात का ध्यान रखना है की आप जहां भी सर पर डाय लगाएँ वो एरिया थोड़ा खुला हुआ होना चाहिए।

जितना आपको सलाह दी जाती है उतनी ही देर चेमिकल आपके सर पर रहना चाहिए, उससे ज़्यादा नहीं।

कोई भी रसायन सर पर लगाने के बाद आपको पूरा सर ही ढंग से धोना चाहिए।

कुछ भी सर पर लगाने से पहले आपको अपने हाथ में दस्ताने पहनने चाहिए।

पैक पर जो भी दिशानिर्देश लिखें हों उसे ढंग से फॉलो करें।

आपको पूरे बालों पर कोई भी चीज़ लगाने से पहले थोड़ी सी जगह पर ये डाय लगानी चाहिए।

पलकों और भौ को कभी भी ब्लीच ना करें। इससे आपको सूजन हो सकती या आपको आँखों में इन्फ़ैकशन हो सकता है।

आपको ये बात भी ध्यान में रखनी है की प्रेगनेंसी में वैसे ही आपके बालों का कलर बदल सकता है। इस समय आपके बाल मोटे या ज़्यादा घने हो सकते हैं। अगर आपके बाल अपने आप बड़े या मोटे हो रहे हैं तो आपको डाय करने के लिए प्रेगनेंसी के बाद का इंतज़ार करना चाहिए।

अगर मैं सौन्दर्य विशेषज्ञ हूँ, और प्रेगनेंट हूँ तो?

सौन्दर्यविशेषज्ञ को हमेशा रसायन के संपर्क में रहना पड़ता है, इसी वजह से उनको किसी भी चीज़ का रिस्क कुछ ज़्यादा ही होता है। एक स्टडी में पता चला की जो महिलाएं ऐसे किसी भी रसायन के संपर्क में 40 घंटे से ज़्यादा रहती हैं, या कह सकती हैं जो किसी की ब्लीचिंग या अन्य सर से जुड़े उपचार केमिकल से करती हैं उनके अंदर गर्भपात का खतरा कुछ ज़्यादा बढ़ जाता है।

आप अगर ये काम करती भी हैं तब भी आप अपने आपको इस रिस्क से बचा सकती हैं। आपको बस हर समय दस्ताने पहनने होंगे, जहां आप काम करती हैं वहाँ आपको खाना या पीना नहीं है, आपको ये भी देखना है की जहां आप काम करती हैं वहाँ हवा की निकासी सही से हो रही या नहीं, हो सके तो आप इस समय केमिकल वाला काम कम से कम करें, और किसी और को मदद करने के लिए बोलें।

कुल मिलाकर बालों के उपचार प्रेगनेंसी में सेफ माने गए हैं, हालांकि आप हिना जैसे नैचुरल तरीके से थोड़ा और सेफ फील कर सकती हैं। आप चाहे किसी भी रास्ते को चुनें, लेकिन आपको हमेशा पहली तिमाही के बाद ही सर का उपचार करना है।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।