प्रेगनेंसी में आपको इन 6 चीजों से दूर रहना चाहिए

Things not to do during pregnancy

प्रेगनेंसी में आप जो भी खाती हैं उसपर आपको काफी नज़र रखनी चाहिए। क्योंकि आप जो भी खाएँगी या पीती हैं उसका सीधा असर आपके बच्चे पर होता है। आपको नीचे दी गई 6 चीजों से प्रेगनेंसी में दूर ही रहना चाहिए:

धूम्रपान या मदिरापान: गर्भ धारण करने के बाद आप जो भी ग्रहण करती हैं उसका आपके बच्चे पर असर पड़ता है। बच्चे को आपसे ही ऑक्सिजन या पोषण मिलते हैं। धूम्रपान से तो आप दूर ही रहें, क्योंकि इससे आपके बच्चे को कम ऑक्सिजन मिलने का खतरा रहता है, जिससे बाद में जाकर आपको गर्भपात हो सकता है, या अन्य समस्या हो सकती हैं। शराब पीने से आपके बच्चे को कई विकार हो सकते हैं जिनमें दिल, दृष्टि या वज़न से जुड़ी समस्या अहम हैं।

कैफीन और सोडा: यदि आप सही मात्रा में कैफीन या सोडा पी रही हैं तो शायद ही आपको इससे कोई बुरा असर हो, लेकिन दिन में कैफीन की मात्रा यदि 300-400 मिलीग्राम ज़्यादा है तो आपको गर्भपात होने का खतरा काफी रहता है। हालांकि सोडा से आपको ज़्यादा नुकसान नहीं होता है लेकिन अगर ये आप कैफीन के साथ ले रही हैं तो ऐसा करना सही नहीं है।

सर्दी या बुखार की दवाई: बेनीड्रिल का इस्तेमाल एलर्जी के लिए होता है। लेकिन आपको वो दवाई नहीं लेनी चाहिए जिनसे आपका ब्लड प्रैशर बढ़ सकता है या मरोड़े हो सकते हैं। एस्प्रिन से आपके बच्चे में खून के थक्के पर असर पड़ सकता है, जिससे आपकी प्रेगनेंसी में दिक्कत आ सकती है। आप थोड़ी या उपयुक्त मात्रा में दर्द-निवारक ले सकती हैं पर आपको ये सब काफी कम ही करना चाहिए, क्योंकि इससे आपके अंदर एम्निओटिक द्रव कम होता है, जो आपके बच्चे के लिए सही नहीं है।

एक्सर्साइज़: आपको कोई भी एक्सर्साइज़ करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। अगर आप प्रेगनेंसी से पहले काफी एक्सर्साइज़ किया करती थी तो आप प्रेगनेंसी के बाद भी ये कर सकती हैं पर ये देखलें की आप कुछ भी चीज़ ज़्यादा ना करें, और आपके अंदर पानी की कमी भी न हो। अगर आपने प्रेगनेंसी से पहले एक्सर्साइज़ नहीं की है तो इसे अब आराम से शुरू करें, सब कुछ एक दिन में हासिल करने की कोशिश से दूर रहें।

घरेलु दवाई और विटामिन: घरेलू दवाई से कभी कभी आपको एलर्जी हो सकती है। घर पर खुद ही डॉक्टर बनने की कोशिश न करें। विटामिन ए की अधिक मात्रा लेने से आपके बच्चे के दिमाग में विकार हो सकता है, साथी ही उसके चेहरे और दिल पर भी असर पड़ सकता है। ज़्यादा विटामिन ई लेने से प्रेगनेंट महिलाओं का खून पतला होता है। आपको जितनी सलाह दी जाए आप उतने ही विटामिन लें।

कच्चा मांस और मछली: अगर आप कच्ची मछली या मांस खाते हैं तो इस बात के काफी चान्स होते हैं की आपके बच्चे तक बैक्टीरिया वाला इन्फ़ैकशन या पैरासाइट पहुँच जाए। इससे आपके बच्चे के विकास पर असर पड़ सकता है।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।