कैसे पैदा होना चाहिए आपका बच्चा?

How do you want to deliver your baby?

जब बच्चे लात मारने लगते हैं तो ये उम्मीद की जा सकती है कि जल्द ही एक नन्हा मेहमान घर में दस्तक देगा। आप को किस तरह से बच्चा पैदा करना है ये हर एक का व्यक्तिगत निर्णय होता है। आप घर जैसी सेटिंग में बच्चा पैदा करना चाहते हैं या फिर मॉडर्न मेडिसिन के ज़रिए, ये आप पर निर्भर करता है।

भले ही आज की महिलाओं के पास ढेर सारे विकल्प मौजूद हों लेकिन फिर भी कुछ चीजों का ध्यान रखना ज़रूरी है।

  • आपका डॉक्टर कहाँ प्रैक्टिस करता है
  • आपका इन्शुरन्स कवर कौनसा है
  • क्या आपका हाई रिस्क प्रेगनेंसी है
  • आप कहां रहते हैं और आपके आस पास कौन सा अस्पताल है

हॉस्टिपल में जन्म

US की ज्यादातर महिलाएं अस्पताल में ही अपने बच्चे को जन्म देती है। अगर आपकी हाई रिस्क प्रेगनेंसी हैं तो अस्पताल में ही बच्चे का जन्म सबसे अच्छा विकल्प है। इसके अलावा आपको सही मेडिकल एडवाइस भी मिल सकती है। शुक्र है बच्चा पैदा करने के पुराने तरीके अब इस्तेमाल नहीं किए जाते। आजकल लेबर डिलीवरी के कई सरल तरीके विकल्प मौजूद हैं।

ट्रेडिशनल हॉस्पिटल बर्थ कई अस्पताल में आप एक रूम से दूसरे रूम में जाते हैं। जैसे आप लेबर और डिलीवरी के एक रूम में जाएंगे, फिर रिकवर होने के लिए दूसरे रूम में और फिर सेमी प्राइवेट रूम में। आपका बच्चा आपके पास खाने के लिए और उसे देखने के लिए लाया जा सकता है। लेकिन सभी अस्पताल ये तरीके नहीं अपनाते।

फैमिली सेंटर्ड केअर- कई अस्पताल आजकल प्राइवेट रूम देती है जिसमें लेबर, डिलीवरी और रिकवरी एल साथ किए जा सकते हैं। इसमें आपका साथी आपके साथ रुक सकता है। इसमें रूम को सजाया जाता है। जन्म के बाद बच्चा आपके साथ ही रहता है।

इन-हॉस्पिटल बिर्थिंग सेंटर- ये सेंटर या तो अस्पताल में होते हैं या फिर अस्पताल के करीब। यहां पर घर जैसे सेटिंग में नेचुरल प्रक्रिया से बच्चे को जन्म दिया जाता है। अगर इसमें कोई समस्या आती है तो पास में ही मेडिकल टीम मदद के लिए मौजूद होती है।

हॉस्पिटल द्वारा दिए जाने वाला दूसरे विकल्प:

  • चाइल्ड बर्थ एंड पेरेंटिंग क्लासेज
  • सर्टिफाइड नर्स
  • नेचुरल डिलीवरी
  • बिर्थिंग पूल्स
  • जन्म देने के लिए बने स्टूल, बॉल और अन्य उपकरण
  • आप प्रसव और बच्चे को जन्म देने के समय अपने खुदके कपड़े पहन सकते हैं।
  • आपको और आपके परिवार को बच्चे के जन्म की वीडियो बनाने की अनुमति दी जाती है।

अगर बच्चे का जन्म हॉस्पिटल में करवाना है तो ये बातें दिमाग में रखें

आप इस समय हॉस्पिटल में घूम सकते हैं। इससे आपको थोड़ी हॉस्पिटल के वातावरण की आदत पड़ जाएगी। देखलें की आप इस समय कहाँ रुकेंगे, और आपको किस चीज़ की ज़रूरत पड़ेगी।

चाहे आपका कमरा अलग ही क्यों न हो, लेकिन फिर भी आपको थोड़ा दिक्कत होगी, क्योंकि हॉस्पिटल के कर्मचारी बार-बार सब देखने के लिए आते हैं, इस समय वो आपकी और आपके बच्चे की जांच भी करते हैं।

देख लें की जिस हॉस्पिटल में आप जा रहे हैं वहाँ ऑपरेशन या एपीसीओटोमी की क्या दर है, मतलब ये चीज़ें वहाँ कितनी होती हैं।

हालांकि हॉस्पिटल आपकी सब बात सुनेंगे पर जहां बच्चे और आपकी सेफ़्टी की बात आती है, वहाँ शायद वो अपने रूल्स ही मानेंगे। इसका मतलब है की ज़रूरत पड़ने पर आपको मेडिकल या सर्जरी से मदद के लिए कहा जा सकता है। आपको लग सकता है की आपको इन चीजों की कोई ज़रूरत नहीं है, पर फिर भी आपको ऑपरेशन के लिए कहा जा सकता है।

आपको हॉस्पिटल के नियम को मानना ही पड़ेगा। जैसे अगर आपका सी-सेक्शन होने वाला है तो आपको स्वच्छ द्रव लेने के लिए ही कहा जाएगा। हॉस्पिटल इस बात का भी फैसला कर सकते हैं की आपकी प्रेगनेंसी के समय कौन-कौन आपके कक्ष में होगा।

स्टैंडअलोन बर्थ सेंटर

ऐसी जगह जन्म देना काफी लोकप्रिय हो गया है। इसमें एक प्रमाणित नर्स/दाई आपका बच्चा पैदा करवाती है। ये सेंटर लोकल हॉस्पिटल से जुड़े होते हैं, और किसी भी दिक्कत में आपको इन हॉस्पिटल में ले जाया जा सकता है।

हॉस्पिटल की तरह से ही ये सेंटर आपको बच्चे को जन्म देने और माँ-बाप बनने से जुड़ी क्लास देते हैं, और ये ज़्यादातर सेंटर इन्शुरेंस के दायरे में आते हैं। जो महिलाएं बिलकुल स्वस्थ हों, उन्हें ही ऐसे सेंटर में जन्म देना चाहिए।

यहाँ कम से कम दवाई की मदद से बच्चे का जन्म प्रकृतिक तरीके से होता है, इसमें आपकी भावनाओं का खयाल रखा जाता है।

यहाँ एक दम घर जैसा माहौल होता है, जहां प्राइवेट रूम होते हैं, जहां आप खा सकते हैं, और बाकी काम कर सकते हैं।

आपका परिवार और आपके दोस्त आपकी डिलिवरी देखने आ सकते हैं।

ऐसे कई सेंटर में जकूज़ी होते हैं, जहां आप प्रसव के समय रिलेक्स कर सकते हैं।

बर्थ सेंटर यानी जन्म केंद्र चुनते समय ये बातें दिमाग में होनी चाहिए

आपको सेंटर के नियम के बारे में पता होना चाहिए, और ये भी की यहाँ काम कैसे होता है।

उनसे पूछें की कितने लोग प्रेगनेंसी के समय सेंटर से हॉस्पिटल ले जाए जाते हैं।

ये भी पूछें की किन परिस्थितियों में महिलाओं को हॉस्पिटल ले जाया जाता है।

पूछें की विकट परिस्थिति में कौन सा डॉक्टर यहाँ मदद के लिए आता है।

एमर्जन्सि में सेंटर क्या करता है, इसकी जानकारी लें, और हॉस्पिटल जाने में कितना समय लगता है।

इस बात का ध्यान रखें ऐसे सेंटर एनेस्थेसिया नहीं देते हैं। इसका मतलब आपके पास एपिड्युरल या कोई भी दर्द निवारक लेने का कोई विकल्प नहीं होगा।

जिस नर्सिंग होम में आप हों, उसके लाइसेन्स की जांच कर लें, ये लाइसेन्स उसे स्थानीय प्रशासन द्वारा दिया गया हो।

ये भी पूछ लें की यहाँ जो लोग काम कर रहे हैं उनकी योग्यता क्या है, और क्या वो सही में यहाँ काम करने लायक हैं या नहीं।

घर में जन्म

हालांकि अमेरिका में 1% से कम महिलाएं घर में बच्चे को जन्म देती हैं, लेकिन 2004 से इस आंकड़े में लगातार बढ़ौत्तरी हो रही है। इससे दिखता है की महिलाएं अपने बच्चे को अपने घर के अच्छे माहौल में ही पैदा करना चाहती हैं।

अगर आप अपने बच्चे को घर में ही जन्म देना चाहती हैं तो आपको इसके फायदे नुकसान के बारे में ढंग से पढ़ लेना चाहिए। एक बड़ी संस्था के अध्यन के अनुसार वैसे इसमें ज़्यादा रिस्क होता नहीं, पर बच्चे की मृत्यु इस समय ज़्यादा हुई हैं। इस संस्था के अनुसार बच्चे को जन्म देने का सबसे अच्छा विकल्प हॉस्पिटल या नर्सिंग होम ही हैं।

घर पर जन्म देना चाह रही हैं, तो ये बातें दिमाग में रखें

अगर आप स्वस्थ हैं तभी आपको घर पर जन्म देने के बारे में सोचना चाहिए। इसके अलावा यदि आपकी प्रेगनेंसी नॉर्मल है, आप पहले जन्म दे चुकी हैं, तभी आपको इस बारे में कोई विचार करना चाहिए। जो महिलाएं अपनी पहली प्रेगनेंसी में घर में जन्म देने की कोशिश करती हैं उनमें से 25-37% को हॉस्पिटल जाने की ज़रूरत पड़ती है।

निम्न स्थिति में अमेरिका की बड़ी संस्था एसीओजी घर पर जन्म देने के लिए बिलकुल मना करती है:

यदि आपको डायब्टीस या ब्लड प्रैशर जैसी कोई दिक्कत हो

आपके पेट में दो या ज़्यादा बच्चे हों

यदि आपकी प्रेगनेंसी में कोई दिक्कत हो

घर पर जन्म देने से पहले आपको नीचे दी हुई चीज़ें भी दिमाग में रखनी चाहिए

कुछ भी गलत होने पर आप कितना जल्दी हॉस्पिटल जा सकते हैं? इस बात का खयाल रखें की कुछ स्थिति बिगड़ने पर आप कितना जल्दी हॉस्पिटल जा सकते हैं।

जन्म के समय आपके साथ कौन रहेगा? ज़्यादातर महिलाएं घर पर जन्म प्रमाणित दाई के साथ देती हैं। एसीओजी भी इसी बात की सलाह देता है की आप किसी ऐसी दाई या नर्स का चुनाव करें जो सरकार द्वारा प्रमाणित हो। जब भी आप किसी दाई या नर्स का चुनाव करें तो उनके अनुभव और शिक्षा के बारे में ज़रूर पूछ लें, और ये भी पूछें की कुछ गलत होने पर वो किस डॉक्टर की मदद लेती हैं।