प्रसव और डिलिवरी के दर्द को संभालना

Labour and pain management

आप बच्चे को जन्म देने के लिए कई प्रकार के दर्द निवारक का चुनाव कर सकती हैं। इसमें दवाई या सांस लेने की तकनीक शामिल है, और इसमें सहजता के विकल्प भी हैं। आप इनके मिश्रण का भी चुनाव कर सकती हैं।

आराम के उपाय

प्रसव और डिलिवरी के तनाव को कम करने के काफी तरीके हैं। प्रकृतिक तकनीक से बच्चे को जन्म देने से दर्द कम हो सकता है, इससे आपको नियंत्रण की भी फीलिंग आएगी।

प्रसव में किसी का साथ: प्रसव के समय से बच्चे के जन्म तक किसी के साथ रहने के परिणाम अच्छे आए हैं।

ध्यान भटकाना: प्रसव के शुरुआत समय में आप चल सकती हैं, पत्ते खेल सकती हैं और टीवी भी देख सकती हैं, संगीत सुनने से भी आपका ध्यान मरोड़ों से हट जाता है।

मालिश- मरोड़ों के समय पीठ और कंधों की मालिश करने से आपका दर्द कम हो सकता है। अपने प्रसव कोच को बताइए की आपको किस जगह की मसाज चाहिए।

सोचना: इस तकनीक में आपकी सोच के आधार पर आपका दर्द कम किया जाता है। उदाहरण के लिए आपको कहा जाता है की आपको अपने मरोड़ों को ऐसे लेना है जैसे कोई समुद्र की लहर हो। इस समय आप पहाड़ या कोई शांत जगह के बारे में सोचकर अपने आप को आराम दे सकते हैं।

प्रसव के समय अपनी मुद्रा बदलनी: चलने, घुटने के बल बैठने, और रबड़ की बड़ी बॉल पर बैठने से आपको आराम मिलता है। अलग-अलग तरीकों से सांस लेने से भी आपको आराम मिलेगा

पानी में प्रसव: गर्म पानी में लेटने से आपका दर्द, तनाव कम होता है और इससे मुश्किल प्रसव भी आसान हो सकता है।

बिना दवाई वाली अन्य तकनीक

सम्मोहन: सम्मोहन की तकनीक से प्रसव का दर्द और तनाव कम हो सकता है, यह कई महिलाओं पर अच्छे से काम करता है।

एक्यूपंचर: इस तकनीक से भी महिलाओं के दर्द को संभाला जा सकता है।

दवाई से दर्द-निवारण

ओपीओइड्स से आपकी बेचैनी कम की जाती है और इससे आपका दर्द भी काफी हद तक कम होता है। एपिड्युरल एनेस्थेसिया में इससे ज़्यादा संभावना रहती है की आपकी डिलिवरी संदंश और वेकयुम हो। लेकिन ओपीओइड का इस्तेमाल आमतौर पर तब नहीं किया जाता है जब बच्चा पैदा होने वाला हो, क्योंकि इससे बच्चे की सांस पर असर पड़ सकता है।

एपिड्युरल एनेस्थेसिया को रीढ़ की हड्डी के पास दिया जाता है, इससे आपकी पीठ पूरी तरह या पीठ का भाग सुन्न पड़ जाता है

प्युडेंटल और पेरासार्विकल ब्लॉक: प्रसव के दर्द को कम करने के लिए इस इंजेक्शन को श्रोणि एरिया में दिया जाता है। यह उस एरिया को सुन्न करने का सबसे सुरक्षित तरीका है जहां से बच्चे को आना है। यह वहाँ मददगार हो सकता है जहां थोड़े से दर्द को संभालने की ज़रूरत हो।

कुछ दर्द निवारक दवाई आपको प्रसव में नहीं लेनी चाहिए। उनका इस्तेमाल एमर्जन्सि डिलिवरी के लिए किया जाता है। लेकिन उनके बारे में आपको जान लें चाहिए।

लोकल एनेस्थेसिया में त्वचा के हिस्से को सुन्न कर दिया जाता है। ये एपिड्युरल देने से पहले किया जाता है।

स्पाइनल ब्लॉक: इसमें रीढ़ के द्रव में दर्द वाला इंजेक्शन दिया जाता है। इसमें श्रोणि का एरिया सुन्न हो जाता है, और फिर ऑपरेशन हो सकता है।

सामान्य एनेस्थेसिया: इसमें आपको सुंघाकर मूर्छित किया जाता है। इसमें कई रिस्क हैं, लेकिन यह सबसे तेज़ भी असर करता है। इसलिए सामान्य एनेस्थेसिया का उपयोग आमतौर पर एमर्जन्सि की स्थिति में किया जाता है।