समय से पूर्व प्रसव

Premature labour

समय से पूर्व प्रसव का मतलब है शरीर समय से पूर्व ही बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार हो रहा है। आपकी डेट के तीन हफ्ते पहले अगर आपको प्रसव हो तो इसे समय से पूर्व प्रसव कहते हैं।

इस प्रसव की वजह से बच्चे का समय से पूर्व जन्म हो सकता है। लेकिन अच्छी बात ये है की डॉक्टर इस प्रसव को बाद के लिए स्थगित कर सकते हैं। जितना बड़ा आपका बच्चा पेट में हो, उतना ही वो स्वस्थ पैदा होता है।

समय से पूर्व प्रसव के कारण

धूम्रपान करना

प्रेगनेंसी से पहले आपका वज़न ज़रूरत से ज़्यादा या कम होना

प्रसव से पूर्व अपना ज़्यादा खयाल ना रखना

शराब पीना या बेकार दवाइयों का उपभोग करना

यदि आपको उच्च रक्तचाप, प्रीक्लेमसिया, डायब्टीस या इन्फ़ैकशन है

एक ऐसे बच्चे को पेट में पालना जिसको कुछ विकारता हों

पेट में अगर जुड़वा बच्चे हों

यदि आपके परिवार में पहले किसी को समय से पूर्व प्रसव हुआ हो

बच्चे को जन्म देने के बाद तुरंत प्रेगनेंट हो जाना

लक्षण

समय से पूर्व प्रसव रोकने के लिए आपको खतरे की घंटी पहचाननी चाहिए। सही समय पर निर्णय लेने से आपकी मदद हो सकती है। नीचे दी गई किसी भी दिक्कत के होने पर अपने डॉक्टर को तुरंत फोन करें:

पीठ में दर्द: पीठ में नीचे की तरफ दर्द होगा। यह लगातार होगा या थोड़े-थोड़े समय पर, लेकिन मुद्रा बदलने के बाद भी इसमें आराम नहीं मिलता।

मरोड़े: हर 10 मिनट में मरोड़े होना

एंठन: पेट में नीचे की ओर मरोड़े होना जैसे आपके पीरियड में होता है। इस समय आपको दस्त भी हो सकते हैं।

द्रव का निकलना: योनी से खून का निकलना

बुखार जैसा होना: जी मिचलना, उल्टी आना या दस्त होना। ऐसा कुछ भी होने पर अपने डॉक्टर को तुरंत फोन करें।

अत्यधिक दबाव: आपकी श्रोणि या योनी में कुछ ज़्यादा ही दबाव होना।

योनी से कुछ ज़्यादा ही द्रव निकलना, या योनी से खून निकलना

ऐसे लक्षण वैसे आम प्रेगनेंसी में भी होते हैं, और बता पाना की इनमें और बाकी लक्षण में क्या अंतर है काफी मुश्किल है। लेकिन जब भी आपको ज़्यादा शक हो तो आप अपनी जांच ज़रूर करा लें।

समय से पूर्व प्रसव के दबाव को कैसे चेक करें?

समय से पूर्व दबाव को समझकर आप जान सकती हैं की आपका प्रसव समय से पूर्व आया है या नहीं।

1.अपनी उँगलियों को पेट पर रखें

2.अगर आपका गर्भाशय सिकुड़ या फ़ेल रहा है तो समझ लें की आपको संकुचन हो रहा है।

3.अपने दबाव का समय लिख लें। इसमें लिखें की आपके दबाव कब शुरू होते हैं और ये भी लिखें की उसके बाद के मरोड़े कब होते हैं।

4.अपने मरोड़ों को रोकने की कोशिश करें। अपने पैर पर खादें हों, और अपनी स्थिति को बदलें। शांत हों जाएँ और दो से तीन गिलास पानी लें।

5.अगर आपको हर 10 मिनट में मरोड़े हो रहे हैं तो अपने डॉक्टर या नर्स को फोन करें। अगर कोई भी लक्षण बिगड़े तो भी अपने डॉक्टर को फोन करें।

इस बात का खयाल रखें की कई महिलाओं को ये मरोड़े बिना किसी मतलब होते हैं, ऐसे संकुचन को ब्रेक्स्टन हिक्स मरोड़े कहते हैं। ये मरोड़े अपने आप चले जाते हैं, और नुकसान नहीं करते। ये प्रसव का हिस्सा नहीं होते। अगर आपको पता ना चले की मरोड़े कैसे हैं तो आप किसी की मदद ले सकती हैं।

हॉस्पिटल जाने की स्थिति में

अगर आपके डॉक्टर या नर्स को लगता है की आपका समय से पूर्व प्रसव होने वाला है तो आपको हॉस्पिटल जाने की ज़रूरत पड़ सकती है। हॉस्पिटल जाने के बाद नीचे दी गई चीज़ें होंगी:

आपके डॉक्टर आपसे आपकी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछेंगे, और पूछेंगे की आप किसी प्रकार की दवाई ले रही थी।

वो आपकी धड़कन, ब्लड प्रैशर और तापमान चेक करेंगे

आपके पेट पर मॉनिटर से वो देखेंगे की आपके बच्चे के दिल की गति कैसी है और आपके मरोड़े कैसे हैं।

वो देखेंगे की अभी बच्चे के पैदा होने पर उसे क्या नुकसान हो सकते हैं।

वो आपकी गर्भाशय ग्रीवा को भी देखेंगे और इस बात को सुनिश्चित करें की वो खुल रही है या नहीं।

अगर पता चलता है की आपका प्रसव समय से पूर्व होने वाला है तो आपको नीचे दिए गए उपचार की मदद पड़ सकती है:

आईवी फ्लूड

ऐसी दवाई जो आपके गर्भाशय को आराम देगी और आपका प्रसव रोकेगी

ऐसी दवाई जिससे बच्चे के फेफड़े तेज़ी से विकसित होंगे

एंटीबाओटिक्स

आपको हॉस्पिटल भर्ती करवाया जा सकता है