दूसरी तिमाही में आपके दाँत ढीले हो सकते हैं, इस तिमाही में होने वाले अन्य बदलाव के बारे में जानें

दूसरी तिमाही में आपकी जी मिचलने की समस्या एक दम से काफी कम हो जाती है। इस समय आपको उल्टी की समस्या भी कम होती है, और इसी वजह से आपका मूड भी पहले से अच्छा रहता है। इस समय आपका वज़न काफी तेज़ी से बढ़ता है इसलिए आपको इस समय के लिए कुछ खास कपड़ों की ज़रूरत पड़ेगी।

बच्चे की गतिविधि

आप इस समय अपने अंदर काफी गतिविधि देखेंगी। हालांकि पहली तिमाही में भी आपका बच्चा हिलता है, लेकिन आप उन्हें उस समय महसूस नहीं कर पाते हैं, लेकिन इस तिमाही में आपके बच्चे की गतिवधि काफी महसूस होती है।

सांस में कमी

इस तिमाही में आपको सांस लेने में दिक्कत हो सकती है। ऐसा होना काफी आम और नॉर्मल है, ऐसा आपके गर्भाशय के बड़े होने की वजह से होता है। बड़े गर्भाशय की वजह से आपके फेफड़ों पर दबवा पड़ता है, इसलिए आपको सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।

आपका पेट

16 हफ्ते तक आपका पेट काफी तेज़ी से उभरता है और आपके हिप भी फैलते हैं। आप 27 हफ्ते तक 16 से 22 पाउंड वज़न बढ़ा सकती हैं। इस समय आपके खिंचाव के निशान भी बड़े और स्तन भी बड़े होंगे, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि स्तन आने वाले समय के लिए तैयार होते हैं। आपके निपल के पास की त्वचा भी काफी गाढ़ी होती है।

आपकी त्वचा इस समय काफी सुखी और खुजली वाली हो सकती है, और सूर्य के प्रकाश से आपको दिक्कत हो सकती है। आपके शरीर पर हर जगह गाढ़ी त्वचा के निशान पड़ सकते हैं।

इमोश्नल बदलाव

इस समय आपका शरीर काफी इमोश्नल और मानसिक बदलाव से गुजरेगा। इसका मतलब है की आप इस समय अपनी बदलती हुई त्वचा के लिए चिंता कर सकते हैं। इस समय अपना ज़्यादा से ज़्यादा खयाल रखें, इससे आपको अच्छा लगेगा।

बुरे स्वप्न

आपको रात को अपने बच्चे को लेकर काफी बुरे सपने आ सकते हैं, और रात में आप पसीना पसीना हो सकती हैं। लेकिन इस बारे में आपको ज़्यादा चिंता नहीं करनी है, ये सब होना भी आम है।

पाँव में दर्द

आपको इस समय खासकर सोते हुए पाँव में एंठन आ सकती है। ऐसा बच्चे के बढ़ते हुए वज़न की वजह से होता है जिसकी वजह से आपकी तंत्रिका पर दबाव पड़ता है, ये बाद में दिक्कत देता है।

दाँत ढीले होना

प्रेगनेंसी के हार्मोन्स से आपकी बॉडी के स्नायु और आपके मुंह की हड्डी पर असर पड़ता है। इसलिए आपके दाँत ढीले हो सकते हैं। हालांकि ये सब डिलिवरी के बाद अपने आप चले जाता है।

नाक भरना और नाक से खून निकलना

ऐसा आपके मुंह और नाक में खून का संचार ज़्यादा होने की वजह से होता है। पहली तिमाही के मुक़ाबले दूसरी तिमाही में आपको जी मिचलने और उल्टी की समस्या कम होती है। आपको प्रेगनेंसी मंगलमय हो!