प्रेगनेंसी में प्रसव पूर्व के टेस्ट और स्कैन

Antenatal tests and scans

प्रेगनेंसी में आपका अपने डॉक्टर से नियमित रूप से मिलना काफी अहम हो जाता है, इससे आपको पता चलता है की आपकी और आपके बच्चे की सेहत कैसी है। आपके डॉक्टर आपको प्रसव पूर्व के टेस्ट लेने के लिए कह सकते हैं, इससे आपको पता चलेगा की आपके बच्चे को कोई दिक्कत तो नहीं है। अच्छा होगा की आप इन टेस्ट के बारे में पहले ही सही प्रकार से जानकारी लें।

आपको नीचे दिए गए टेस्ट और स्कैन के बारे में पता होना चाहिए:

अल्ट्रासाउंड

अल्ट्रासाउंड से बच्चे के विकास का बिना किसी दर्द पता चलता है। इसमें काफी उच्च आवृत्ति वाली आवाज़ की ध्वनि को आपके पेट पर छोड़ा जाता है जिससे बच्चे की तस्वीर बनती है। इससे डॉक्टर गर्भनाल और बच्चे के पेट में स्थान का पता लगाते हैं, इससे पता चलता है की कहीं पेट में एक से ज़्यादा बच्चे तो नहीं है, और इसमें गर्भाशय और गर्भनाल की भी जांच हो जाती है।

खून के टेस्ट

खून की जांच से पता चलता है:

एनीमिया: प्रेगनेंसी में आपके शरीर को आपकी और आपके बच्चे की आइरन की ज़रूरत पूरा करने के लिए काफी मात्रा में आइरन लेना पड़ता है।

ब्लड ग्रुप और प्रकार: अगर आपका बच्चा Rh पॉज़िटिव या नेगेटिव है और क्या ये माँ के खून से मिलता है या नहीं।

इसमें किसी खास प्रकार के इन्फ़ैकशन का पता चलता है जैसे हेपेटाइटस, सिफलिस और एचआईवी आदि।

गर्भावस्था की डायब्टीस: ये वो डायब्टीस होती है जो खासकर प्रेगनेंसी के समय ही होती है।

पेशाब की जांच

इस टेस्ट का उद्देश्य नीचे है:

प्रेगनेंसी की पुष्टि करना: आप कभी भी अपनी प्रेगनेंसी की पुष्टि अपने पेशाब की जांच से ही करती हैं।

गर्भावस्था की डायब्टीस: यूरिन यानी पेशाब में ग्लूकॉज़ की मात्रा देखकर हमें पता लग सकता है की आपको गर्भावस्था की डायब्टीस है भी या नहीं।

प्रीक्लेम्सिया: प्रेगनेंसी में उच्च रक्त चाप से ये दिक्कत होती है, और आपके यूरिन में प्रोटीन के लेवल को देखकर इसका पता लगाया जा सकता है।

मूत्र थैली में इन्फ़ैकशन: यदि आपके यूरिन में लाल या सफ़ेद कोशिका या बैक्टीरिया है तो आपको पेशाब की थैली में इन्फ़ैकशन हो सकता है।

इसके अलावा आपके ब्लड प्रैशर, स्तन टेस्ट और अन्य टेस्ट हो सकते हैं या होने चाहिए, इससे पता चलता है की आपके शरीर में कोई दिक्कत तो नहीं है जिससे बच्चे के शरीर पर असर पड़े।

यदि आपको कोई भी शंका हो तो आपकी शंका को दूर करने के लिए काफी टेस्ट होते हैं जिससे जनेटिक डिसोर्डर या विकार का पता चलता है।

यदि आप ये सभी टेस्ट नियमित तौर और सही प्रकार से डॉक्टर की सलाह पर करवाएँ तो आपके बच्चे और आपकी दोनों की सेहत अच्छी रहेगी, और आपकी प्रेगनेंसी में स्वस्थ रहेगी।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।