दूसरी तिमाही में डॉक्टर से मिलना

Second trimester prenatal visits

दूसरी तिमाही यानी 14 से 27वें हफ्ते के दौरान आप अपने डॉक्टर को चार हफ्तों में एक बार मिलती हैं, हाँ अगर आपकी प्रेगनेंसी में कोई दिक्कत है तो आपको इससे ज़्यादा बार डॉक्टर से मिलना पड़ सकता है। हर विजिट में डॉक्टर ये करेगा:

जानकारी इकट्ठा करना

आप इस बार डॉक्टर से मिलने से पहले जब आखरी बार डॉक्टर से मिली थी तब आपको जो दिक्कत थी डॉक्टर उसके बारे में बात करेंगे। वो आपको पिछली बार के टेस्ट रिज़ल्ट के बारे में बताएँगी।

आपके डॉक्टर आपसे ये सवाल पूछ सकते हैं:

क्या आपको जी मिचलने की समस्या है?

क्या आपको बच्चे की गतिविधि महसूस हो रही है?

क्या आपसे द्रव का रिसाव हो रहा है या योनी से कुछ द्रव या खून निकल रहा है?

क्या आपने कोई मरोड़े महसूस किए?

वो आपसे पूछ सकते हैं की आपको वैसे कैसा लग रहा है और शारीरिक और मानसिक रूप से आप कैसा महसूस कर रही हैं। डॉक्टर इन बातों को पूछकर इस बात की पुष्टि करता है की सबकुछ ठीक है या नहीं। इससे आपको तसल्ली भी होती है की आपका डॉक्टर आपके केस को काफी अच्छे से देख रहा है। आपको हमेशा याद रखना है की डॉक्टर से मिलकर आपको अपनी सभी चिंताएँ शेयर करनी हैं, इसलिए जाने से पहले सवालों की लिस्ट ज़रूर बना लें।

अपने वज़न को नापें

सही प्रकार से यदि आपका वज़न बढ़ रहा है तो आपकी प्रेगनेंसी और बच्चा दोनों स्वस्थ हो सकते हैं। आपको कितना वज़न बढ़ाना चाहिए? खैर ये इस बात पर निर्भर करता है की आपका वज़न और लंबाई प्रेगनेंसी से पहले कैसी थी, आपके पेट में कितने बच्चे हैं इसपर भी ये निर्भर करता है। आपको यदि लगता है की आपका वज़न ज़्यादा या कम बढ़ रहा है तो आपको अपने डॉक्टर से अपनी चिंता साझा करनी चाहिए।