एक तिहाई प्रेगनेंट महिलाओं की नाक में भराव होता है, इससे कैसे बचें?

Stuffy nose during pregnancy

लगभग तीन में से एक महिला को प्रेगनेंसी में नाक भरने की शिकायत रहती है। आपके शरीर में बदलाव की वजह से आपके नाक के छिद्र में बदलाव होते हैं, और इस बदलाव की वजह भी हार्मोन्स हैं। इसलिए अगर आप बिना किसी कारण के छींक या नाक बहने की शिकार हैं तो इसका कारण केवल प्रेगनेंसी है।

रिनीटीस, जब आपका बलगम सूज जाता है और इससे आपकी नाक में दिक्कत होती है, ये आमतौर पर पहली तिमाही में होता है, लेकिन ये हार्मोन्स में बदलाव की वजह से बढ़ सकते हैं।

आपके अंदर एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन नामक हार्मोन्स काफी तेज़ी से बढ़ रहे हैं और इसी वजह से आपको जुकाम होता है, इससे आपके नाक के अंदर की खून की कोशिका सूज जाती है। आपके शरीर में इस समय बच्चे की वजह से काफी अच्छी मात्रा में खून बनाया जा रहा है। यदि आप प्रेगनेंट नहीं हैं तो इस बीमारी का इलाज़ करना काफी आसान हैं, लेकिन प्रेगनेंसी में आपको कुछ ज़्यादा ही सतर्क होने की ज़रूरत है, और आपको देखना है की आपके लिए क्या ज़रूरी है, इस समय ली गई दवाई से आपके बच्चे पर असर पड़ सकता है।

कुछ दवाई आपको इस समय नहीं लेनी चाहिए और आपको इस समय नाक में डालने वाला स्प्रे भी डालने से बचना चाहिए, चाहे उनपर नैचुरल ही क्यों ना लिखा हो।

आप इस समय निम्न उपाय कर सकते हैं:

भाप लेना

इस समय गरम भाप लेना काफी अच्छा होता है। एक गरम पानी से भरा हुआ भगोना लें और अपने सर के ऊपर तौलिया रख लें। इस समय अंदर बड़ी सांस लें, और बाहर भी इस सांस को आराम से छोड़ें।

अदरक

इस समय आप सुबह-सुबह अदरक वाली चाय पी सकती हैं। इससे आपके अंदर नाक को साफ करने की क्षमता बढ़ेगी।

अपना सर पूरा रखें

सोते समय अपने सर को हमेशा ऊपर रखें इससे आपका बलगम नीचे की ओर ही रहेगा। इस समय आपकी गर्दन और पीठ को अच्छा समर्थन मिलना चाहिए।

बार-बार नाक से बलगम निकालें

अपनी नाक हमेशा साफ करती रहें। इससे आपकी नाक का रास्ता साफ रहेगा। इसे कुछ ज़्यादा भी ना करें, इससे आपकी त्वचा सूख सकती है।

पानी पीना

इस समय काफी मात्रा में पानी लेई। इससे आपका बच्चा तो स्वस्थ रहेगा ही साथ ही इससे आपकी नाक भी खुलेगी।

अगर स्थिति ज़्यादा ही खराब होती है तो अपने डॉक्टर को ज़रूर फोन करें।