प्रेगनेंसी में चेचक होना

Chickenpox during pregnancy

प्रेगनेंसी में पहले ही आपको कई प्रकार की दिक्कत होती हैं, और अगर आपको इस समय चेचक हो जाए तो स्थिति काफी बेकार हो सकती है। ये ऐसा वाइरस है जो काफी तेज़ी से फैलता है। यहाँ हम आपको बताएँगे की आप कैसे इससे बचाव और कैसे इस लड़ सकते हैं।

चेचक है क्या?

ये एक वाइरल इन्फ़ैकशन है जिसे वेरिसेला भी कहते हैं। ये वेरिसेला-ज़ोस्टर वाइरस की वजह से होता है।

चेचक के लक्षण या संकेत क्या हैं?

इसमें आपकी त्वचा लाल होती है, और आपको खुजली वाले दाने होते हैं, और इनमें मवाद भी भर जाता है। ये आपके चेहरे से लेकर गर्दन तक फैल सकते हैं। आपको पहले बुखार और शरीर में दर्द हो सकता है, और फिर आपको दाने दिखाई देंगे।

चेचक होता क्यों है?

ये तभी होता है जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति या वाइरस के संपर्क में आते हैं। ये खांसी, छींक से, या किसी के सामान को टच करने से आपको हो सकता है।

चेचक से प्रेगनेंसी पर क्या असर पड़ता है?

अगर आपको एक बार चेचक हो गया तो इस बात की संभावना कम है की आपको ये फिर से होगा, क्योंकि शरीर में इसके लिए प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। अगर आपको ये कभी नहीं हुआ है तो चान्स है की आपको प्रेगनेंसी में ये हो जाए। आपको उन लोगों से दूर रहना चाहिए जिनको ये संक्रमण हो।

इससे बच्चे पर क्या असर पड़ता है?

अगर आपको पहली तिमाही में ये हो गया तो इस बात के चान्स कम हैं की आपको बच्चे को जन्म से जुड़े कोई विकार होंगे।

अगर आपको 13-20वें हफ्ते के बीच ये हुआ तो आपके बच्चे को जन्म से जुड़े विकार होने के काफी चान्स होते हैं।

अगर आपको डिलिवरी के एक हफ्ते पहले ये हुआ तो आपके बच्चे को काफी खतरा है, और उसे ये हो भी सकता है।

बच्चे को जन्म से जुड़े विकार जैसे दाग, दिखने की समस्या, मानसिक दिक्कत, बेकार विकास हो सकते हैं।

आपको इससे बचने के लिए निम्न चीज़ करनी चाहिए:

अगर आपको पहले ये हुआ है तो आपको ये दुबारा नहीं हो सकता है।

आपको ज़ोस्टर-इम्यून ग्लोबुलिन दिया जाता है, वो भी तक यदि आपको पहले ये कभी नहीं हुआ हो। ये आपको किसी के संपर्क में आने के 4 दिनों के अंदर भी दिया जा सकता है।

आपको वैसे गर्भधारण करने के 3 महीने पहले इसके लिए टीके लेने चाहिए।

आपको सलाह दी जाती है की आप उस इंसान के संपर्क में न आएँ जो इससे प्रभावित हो और अगर ऐसा कुछ हुआ तो आपको अपने डॉक्टर से तुरंत बात करनी चाहिए।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।