प्रेगनेंसी में फ्लू होना

flu during pregnancy

फ्लू एक फैलने वाला इन्फ़ैकशन है जिसमें नाक से खून निकलता है और इसमें आपका गला सूख जाता है। इससे आपको बुखार हो सकता है और आपकी प्रेगनेंसी में इसके काफी असर हो सकते हैं।

फ्लू फैलता कैसे है?

फ्लू एक इंसान से दूसरे में फैलता है। जब कोई संक्रमित इंसान खाँसता, छींकता या बोलता है तो ये वाइरस फैल जाता है। अगर आप किसी ऐसे इंसान की चीज़ छूते हैं जिसे ये इन्फ़ैकशन है तो भी आपको फ्लू हो सकता है।

फ्लू के लक्षण क्या हैं?

फ्लू के सबसे सामान्य लक्षण हैं जिसमें बुखार, नाक बहना, गले में दर्द, शरीर में दर्द, सर में दर्द, ठंड लगना, उल्टी आना और थकान लगना शामिल है। प्रेगनेंसी में कई लक्षण होते हैं, जैसे भ्रम होना, बच्चे का कम हिलना, आपके पेट में दर्द होना, एक दम से चक्कर आना, सांस लेने में दिक्कत होना, या भयंकर उल्टी होना।

इससे प्रेगनेंसी पर क्या असर पड़ता है?

प्रेगनेंसी में फ्लू काफी दिक्कत पैदा कर सकता है, क्योंकि इससे आपके प्रतिरोधक तंत्र पर असर होता है, इससे आपको नमोनिया हो सकता है। समय से पूर्व प्रसव भी फ्लू की वजह से हो सकते हैं और बच्चे का समय से पूर्व जन्म भी इसकी वजह से होता है। फ्लू से होने वाले बुखार से आपकी न्यूरल ट्यूब में भी विकार आ सकता है जिससे बच्चे को कई जन्म से जुड़े विकार हो सकते हैं।

प्रेगनेंसी में इसका उपचार कैसे होता है?

कभी-कभी डॉक्टर आपको प्रेगनेंसी से पहले या प्रेगनेंसी में फ्लू शॉट लेने की सलाह दे सकते हैं। अगर आपको इसके टीके नहीं लगे हैं और आपको फ्लू हो गया तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। यदि इसका उपचार तुरंत हुआ तो इससे आपकी प्रेगनेंसी सुरक्षित रहेगी, और आपको निमोनिया जैसी गंभीर बीमारी नहीं होगी।

बुखार का उपचार तुरंत होना चाहिए। वैसे आपको आमतौर पर एसेटेमीनोफिन लेने की सलाह सभी प्रेगनेंट महिलाओं को दी जाती है। आप बुखार को कम करने के लिए पैरसीटामॉल भी ले सकती हैं। हालांकि आपको किसी भी स्थिति में अपने आप दवाई नहीं लेनी है। आप जो भी करें उसमें आपके डॉक्टर की सलाह होनी चाहिए।

आपको यदि फ्लू हो जाए तो आपको भरपूर आराम करना चाहिए। आपको दिन भर आराम ही करना है और काफी पानी पीना है।

फ्लू से बचें कैसे?

आपको फ्लू शॉट यानी टीके लेने की सलाह दी जाती है

खाली हाथ खांसी या छींके नहीं

अपनी काफी सफाई रखें

बीमार लोगों से दूर रहें

अपनी आँख को न छूएँ, आँख और मुंह को भी लगातार न छूएँ।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।