प्रेगनेंसी में हेपेटाइटिस-बी होना

Hepatitis B during pregnancy

हेपेटाइटिस बी है क्या?

हेपेटाइटिस बी एक फैलने वाला इन्फ़ैकशन है जिसमें लीवर कोशिका सूज जाती है। ये एक इंसान से दूसरे में शरीर के द्रव से फैल सकती है, ये वीर्य और योनी के द्रव से भी फैल जाता है।

इसके लक्षण

इसके लक्षण या तो दिखते ही नहीं या कम दिखते हैं। ये इन्फ़ैकशन होने के दो से तीन महीने बाद इसके लक्षण दिखते हैं। दो चरणों में ये होते हैं।

पहले फ्लू जैसे लक्षण जैसे थकना दर्द, कम से कम 10 दिन तक दर्द होना, फिर उसके बाद पीलिया, थकान, जी मिचलना और भूख का कम से कम 1-3 हफ्ते तक नहीं लगना।

कुछ लोगों को त्वचा में खुजली होती है, कुछ गाढ़ी पेशाब आती है और कुछ को पीले रंग की पेशाब आती है।

हेपेटाइटस बी होता क्यों है?

हेपेटाइटस बी के लक्षण काफी समय बाद दिखते हैं। ये निम्न कारणों से हो सकता है:

जिस व्यक्ति के अंदर ये वाइरस है यदि आपने उसके साथ बिना कोंडोम के सेक्स कर लिया तो आपको ये हो सकता है।

अगर आपने कोई संक्रमित सुईं से अपना इलाज़ करवाया है या कह सकते हैं की किसी और का खून आपके खून के संपर्क में आया हो।

ये प्रेगनेंसी में माँ से बच्चे को फैलता है

यदि आप किसी का ब्रश या रेज़र इस्तेमाल कर रहे हों

यदि आप डेन्टिस्ट के क्लीनिक में किसी संक्रमित यंत्र के संपर्क में आए हों

इसका उपचार कैसे होता है?

अगर आपको प्रेगनेंसी में हेपेटाइटस बी है तो इस बात की संभावना काफी ज़्यादा है की ये आपके बच्चे को भी हो जाए। खून की जांच से इसका पता चलता है, जो सबसे अच्छा तरीका है। अगर परिणाम पॉज़िटिव आए तो देखा जाएगा की आपको दवाई देनी हैं या नहीं। अगर वाइरस कुछ ज़्यादा ही फैल गया है तो आपको वो दवाई दी जाएंगी जिससे आपके बच्चे को ये वाइरस फैलने की संभावना को कम जाती है। कभी कभी बच्चों को इससे बचने के लिए एंटीबॉडी के इंजेक्शन को बच्चे को दिया जाता है। इसका उपचार तीसरी तिमाही में शुरू होता है और बच्चे को जन्म देने के 4-12 हफ्ते बाद तक उपचार चलता है। अगर वाइरस कम फैला है तो उपचार डिलिवरी के बाद हो सकता है।

आपको हेपेटाइटस बी की दवाई लेनी चाहिए और आपको ये सब डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए, वो बताएँगे की आपके लिए कितनी दवाई सही है।

अगर आपने प्रसव पूर्व अपना ढंग से खयाल रखा है तो आपके बच्चे को हेपेटाइटस बी का असर पड़ने की संभावना कम होगी। कभी कभी जन्म के समय बच्चे को इसके लिए टीके देने की ज़रूरत पड़ती है।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।