प्रेगनेंसी में प्लेटलेट्स का कम होना- कब चिंता करनी चाहिए?

Low platelet count during pregnancy

प्लेटलेट्स वो कोशिका होती हैं जो आपके खून के थक्का बनने में मदद करती हैं। अगर आपकी प्लेटलेट्स कम हैं तो प्रेगनेंसी में आपको थ्रोम्बोसायटोपेनिया हो सकता है। ये दस में एक प्रेगनेंट महिला को होती है, ये आमतौर पर प्रेगनेंसी के बीच में होती होती है। थ्रोम्बोसायटोपेनिया का पता आमतौर पर रूटीन खून के टेस्ट से लगाया जाता है।

अगर आपके प्लेटलेट्स आम से थोड़े ज़्यादा हैं तो इससे आपको और आपके बच्चे को कोई असर नहीं पड़ेगा व संभावित रूप से आपको उपचार लेने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। अगर आपके प्लेटलेट्स कम हो रहे हैं तो आपके डॉक्टर आपकी पूरी प्रेगनेंसी में आपके प्लेटलेट्स पर नज़र रखेंगी। बच्चे को जन्म देने के बाद आपके प्लेटलेट्स का स्तर पहले जैसा या नॉर्मल हो जाता है।

हालांकि डॉक्टर को नहीं पता की थ्रोम्बोसायटोपेनिया होता क्यों है पर नीचे दिए गए कारक इसमें काफी अहम भूमिका निभाते हैं:

अगर आप प्लेटलेट्स का इस्तेमाल नहीं करती हैं तो शरीर इन्हें प्रकृतिक रूप से नष्ट करता रहता है और इनकी जगह नए प्लेटलेट्स आते हैं। प्रेगनेंसी में ये सबकुछ काफी तेज़ी से होता है, जिसका मतलब है आपके खून में काफी कम और नए प्लेटलेट्स होते हैं।

प्रेगनेंसी में शरीर खून के तरल वाला हिस्सा ज़्यादा बनाता है जिसे प्लाज़्मा कहते हैं, जिसका मतलाब है प्लेटलेट्स इस समय ज़्यादा पतले होते हैं। इससे प्लेटलेट्स के काम करने पर असर नहीं पड़ता है।

अगर आपके खून में 100 मिल्यन से कम प्लेटलेट्स हो गए हैं तो आपको कुछ फालतू टेस्ट लेने के लिए कहा जाएगा। इसे आपके डॉक्टर द्वारा थ्रोम्बोसायटोपेनिया में रखा जा सकता है। जब प्लेटलेट्स हर मिलीग्राम में 50 मिलीग्राम से कम होते हैं तो आपको थ्रोम्बोसायटोपेनिया की समस्या गंभीर मानी जाती है। आपको इससे लुपस हो सकता है, मतलब आपका प्रतिरोधक तंत्र आपकी स्वस्थ कोशिका पर हमला करना शुरू कर देता है।

काफी दुर्लभ केस में कुछ महिलाओं को प्रेगनेंसी से अलग वाला थ्रोम्बोसायटोपेनिया होता है। इस कंडिशन में आपको त्वचा पर बैंगनी दाग दिख सकते हैं, फिर आपको काफी खून निकल सकता है।

अगर आपको ऊपर दिए गए कोई भी स्थिति के लक्षण हों तो आपके डॉक्टर आपके डॉक्टर आपके लिए उसी तरह से प्रेगनेंसी के प्लैन बनाएँगे।

अगर आपको कम असर वाला या गंभीर थ्रोम्बोसायटोपेनिया हो गया तो आपके डॉक्टर आपको प्रेगनेंसी में इसका असर कम करने के लिए दवाई लेने की सलाह देंगे, इससे आपका बच्चा भी सुरक्षित रहेगा।

कभी कभी प्लेटलेट्स के कम होने से प्रेगनेंसी की कोई और समस्या भी दिख सकती है। हो सकता है की आपको प्रीक्लेम्सिया हो। आपको इसमें निम्न लक्षण दिख सकते हैं:

सर में भयंकर दर्द

जी मिचलना

ब्लड प्रैशर का बढ़ना या पेशाब में यूरीन का आना

सांस लेने में दिक्कत होना

पाँव, टखने या हाथ, चेहरे पर एक दम से सूजन होना

अगर आपको ऊपर दिए गए कोई भी लक्षण दिख रहे हैं तो अपने डॉक्टर को तुरंत फोन करें।

प्रेगनेंसी से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारी एंगों हेल्थ एप यहाँ डाउनलोड करें।