क्या आपके मसूड़ों से खून निकल रहा है? आपको आने वाले दिनों में सूजन की समस्या हो सकती है

Bleeding gums

प्रेगनेंसी में आप अपनी स्वच्छता का खयाल रखकर अपने इस समय को काफी आराम से निकाल सकती हैं। वैसे तो इस समय आपको अपने शरीर का कुछ ज़्यादा ही खयाल रखना पड़ता है, लेकिन प्रेगनेंट महिलाओं के लिए अपने दाँत का खयाल रखना कुछ ज़्यादा ही अहम हो जाता है।

प्रेगनेंसी के दौरान आप अपने मसूड़ों में काफी लालपन या खून निकलते हुए देख सकती हैं। इसे ही मसूड़ों में सूजन कहते हैं, और आमतौर पर ये आगे के दांतों में होती है। ऐसा आपके शरीर में हार्मोन्स की संख्या बढ़ने से होता है। प्रेगनेंसी में आम समय की तुलना में प्रोजेस्ट्रोन का स्तर दस गुना ज़्यादा बढ़ता है, और इसी वजह से आपके मसूड़ों में समस्या होती है।

आपके और आपके बच्चे के लिए नियमित दाँत की जांच काफी अहम है। आपको इस समय दाँत के डॉक्टर के पास जाना चाहिए और उन्हें बताना चाहिए की आपकी डेट कब की है, इससे वो आपका उपयुक्त उपचार कर पाएंगे। आपको इस समय फ्लोराइड वाले पेस्ट के साथ दिन में दो बार दाँत साफ करने चाहिए।

आप नीचे दिए गए तरीकों से प्रेगनेंसी में अपने दांतों का खयाल रख सकती हैं:

दांतों का पूरा खयाल रखें: आप अपने दांतों की पूरी जांच प्रेगनेंसी की किसी भी अवस्था में करवा सकती हैं। अगर आपको कुछ ज़्यादा ही सावधानी की ज़रूरत है तो इसके बारे में आपके डॉक्टर आपको सलाह देंगे। अपने दाँत के डॉक्टर को ये भी बताएं की आपकी प्रेगनेंसी की कौनसी अवस्था चल रही है। अगर आपको बार बार एक ही दाँत की समस्या आ रही है तो आपको एक्स-रे और दवाई लेनी पड़ सकती है पर आपके बच्चे और आपको इन किरणों से काफी संभलकर रहना चाहिए। अगर आपको काफी दिनों से समस्या है तो इस समस्या को ज़्यादा दिनों के लिए नज़रअंदाज़ करके रखना भी सही नहीं है।

सही खयाल रखें: अपने दांतों को दिन में दो बार साफ करें और अपने ब्रश को 3-4 महीने में बदलें। अपने ब्रश को किसी को ना दें। अगर आपको उल्टी हो रही है तो अपने मुंह को पकाने वाले सोडा और एक कप पानी के घोल से कुल्ला करें। अगर आपको उल्टी की वजह से ज़्यादा ब्रश करने में दिक्कत हो रही है तो अपने दाँत के डॉक्टर से पूछें की आप कौन सा ब्रैंड इस्तेमाल कर सकती हैं।

अच्छा भोजन लें: इस समय सब्जी, फल और दूध से बने उत्पाद ज़्यादा से ज़्यादा लें। इस समय मीठी चीज़ खाने का मन करना भी काफी आम है। ऐसे खाने से दूर रहें जिसमें शुगर की मात्रा कुछ ज़्यादा ही हो, जैसे चॉक्लेट और अन्य मीठा पेय-पदार्थ।