एक दम से गर्मी लगे तो प्रेगनेंसी में क्या किया जाए?

Hot flashes during pregnancy

क्या आपको पता है की 35% महिलाओं को प्रेगनेंसी में एक दम से गर्मी लगती है, और 29% महिलाओं को बच्चे को जन्म देने के बाद भी ऐसा ही महसूस होता है? मासिक धर्म बंद होने का एक लक्षण एक दम से गर्मी लगना भी है, एक तिहाई महिलाएं प्रेगनेंसी के समय और बाद में भी गरम महसूस करती हैं, और ये कभी-कभी चिढ़ा सकता है। लेकिन ये कैसी गर्मी है और इसका कारण क्या है? क्या इनसे बच सकते हैं।

गरम थपेड़े कैसे महसूस होते हैं?

इसमें आपको गर्दन से लेकर सर तक गर्मी लगती है और जो आपकी छाती तक जाती है, यह 5 सेकंड से 30 सेकंड तक रहती है। कुछ केस में यह ताप नीचे से बन सकता है। ऐसा होने पर आपके शरीर से पसीना निकलता है, क्योंकि आपका शरीर खुदको ठंडा करने की कोशिस करता है।

एक दम से तापमान काफी अलग तरिके बढ़ सकता है। याद रखें की बुखार आना और फ्लेश यानी तापमान बढ्ने में काफी फर्क है, और फ्लेश में आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं होता।

क्या प्रेगनेंसी में एक दम से गर्मी बढ़ना आम है?

हाँ, प्रेगनेंसी में आपको एक दम से गर्मी लगना या फ्लेश आने नॉर्मल हैं। यह पहली या दूसरी तिमाही में रात को आते हैं। किसी केस में बच्चे के पैदा होने के बाद भी आपको फ्लेश आ सकते हैं, क्योंकि आपका शरीर स्तनपान के लिए दूध बनाता है। आपकी त्वचा के अंदर हार्मोन्स बढ्ने से रक्त का संचार तेज़ होता है, जिससे आपको एक दम से गर्मी लगती है। खून के तेज़ी से बढ्ने पर शरीर का तापमान बढ़ता है, आमतौर पर आपके छाती वाले हिस्से, गर्दन, सर और ऊपर के हिस्से में ऐसा होता है।

प्रेगनेंसी में एक दम से गर्मी क्यों लगती है?

इसका सटीक कारण बता पाना काफी मुश्किल है लेकिन कुछ स्टडी से पता चला है की कई कारणों की वजह से ऐसा हो सकता है।

1.हार्मोनल एक्शन

प्रेगनेंसी में हार्मोन्स में बदलाव होना काफी आम है, खासकर एस्ट्रोजन में। इससे दिमाग खून वाहिकाओं में और एपिनेफ्रीन और नोरेपाइनिफ्रीन छोड़ता है, इससे त्वचा में ज़्यादा खून जाता है और फिर लगती है गर्मी।

2.पानी की कमी

शरीर में अगर पानी सही मात्रा में है तो इससे आपका तापमान भी सही रहता है। लेकिन पानी की कमी से आपके शरीर का तापमान काफी बढ़ सकता है।

3.शरीर का तापमान बढ़ना

प्रेगनेंसी में चयपचय की दर बढ़ जाती है और इससे शरीर में हीट बनती है, और फिर आपको एक दम से गर्मी लगती है। आपके शरीर को पता है की इस समय इसको दो लोगों का ध्यान रखना है, इस समय ये काफी काम करता है और इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है

4.ज़्यादा वज़न होना

ज़्यादा वज़न से आपके शरीर में गर्मी बनी रहती है, और फिर आपको एक दम से गर्मी लगती है।

कुछ और नीचे दिए गए कारक भी गर्मी बढ़ा सकते हैं:

असंतुलित आहार

सोने की कोई दिनचर्या नहीं

व्याकुलता, तनाव, गुस्सा

प्रेगेनेसी से पहले ज़्यादा बीएमआई होना

शुगर लेवल का कम होना

गर्मी एक दम से लगने के लक्षण क्या हैं?

गर्मी एक दम से आपके शरीर से आपके चेहरे तक जाती है

एक दम से हर जगह गर्मी लगती है

इस समय आपको लग सकता है जैसे आप सूरज के नीचे सो रही हों, या ऐसा लग सकता है जैसे आप आग के पास हों

आपको ये गर्मी एक दम से लग सकती है

धड़कन में तेज़ी आना

चेहरा लाल होना

पसीने आना

एक दम से गर्मी लगने पर क्या किया जाए?

महिलाओं के बड़ी डॉक्टर अंजली मल्होत्रा कहती हैं की सही प्रकार से एक्सर्साइज़ करना, सही खाना, और ठंडे पानी की सिकाई करके आप इस दिक्कत को कम कर सकते हैं। जो लोग मोटे होते हैं उन्हें ज़्यादा ही एक दम से गर्मी लगती है। क्योंकि अधिक वसा या चर्बी अधिक एस्ट्रोजन बनाती है।

नीचे दिए गए तरीकों से आप इस दिक्कत का सामना कर सकते हैं:

1.ठंडी जगह सोएँ: अगर आपको रात में भी एक दम से गर्मी लग रही है तो आपको एक ठंडे कमरे में सोना चाहिए। अगर आप अपनी खिड़की खुली करके, पंखा चलाके या एसी चलाके सोएँ तो इससे आपको राहत मिलेगी।

2.सूरज से दूर रहें: इस समय आप सूरज से बड़ी सी टोपी पहनकर दूर रहें, इससे आपका चेहरा और कंधा बच जाएगा। इस समय सूरज के नीचे धूप ना लें, और समंदर किनारों से भी दूर रहें।

3.पानी सही से लें: आप जहां भी जा रही हों वहाँ पानी की बोतल ले जाएँ, अगर आप पोषण वाली हर्बल चाय ले सकती हैं तो ये भी आपके लिए अच्छी बात है।

4.अपने आहार का ध्यान रखें: आपको अपने खाने में सभी खानों का संतुलन रखने की ज़रूरत है, जिसमें सब्जी, फल, हरे पत्ते, अनाज और प्रोटीन होना चाहिए, जैसे अंडे, मीट, पनीर। आपके खाने के बीच में लंबा अंतराल नहीं होना चाहिए।

5.आपकी दिनचर्या सही होनी चाहिए: आपको इस समय मसालेदार, गर्म और बाहर का खाना कम ही खाना चाहिए। इस समय कैफीन और शराब भी ना लें। धूम्रपान करती हैं तो इस समय इसे बिलकुल छोड़ दें। इन सबसे आपको अधिक गर्मी लग सकती है।

6.ठंडा करने का समान: अपने साथ चेहरे को पोछने वाले गीले कपड़े, छोटा पंखा, पानी से भरी स्प्रे बोतल हमेशा अपने साथ रखें, आप कहीं भी जाएँ ये सब आपके पास होना चाहिए, क्योंकि बाहर आपको एक दम से गर्मी काफी लग सकती है। ज़्यादा ही गर्मी लगे तो गीले कपड़े से अपना चेहरा साफ कर लें।

7.सांस लेने की एक्सर्साइज़: जब भी आपको एक दम से गर्मी लगे तो ज़्यादा चिंता ना करें। आम तरीके से सांस लेने से अच्छा है की आप ध्यान लगाएँ या योगा करें, इससे आपका तापमान सही होने में मदद मिलेगी। आप थोड़ी देर के लिए टहलने भी जा सकती हैं।

8.ढीले कपड़े पहनें: इस समय आपको आरामदायक कपड़े ही पहनने चाहिए, जैसे कुर्ता पाजामा, वो कपड़े जो आप आसानी से उतार भी सकें। उस ही कपड़े को पहनें जो प्रकृतिक फाइबर से बना हो, जैसे सूती कपड़ा। सूती से आपको हवा आसानी से मिल जाती है। इस समय सिंथेटिक और पॉलियस्टर न पहनें।

9.स्वस्थ वज़न: आपको इस समय सतर्क रहते हुए एक्सर्साइज़ करनी है जिससे आपका सही रहे। अगर आपका वज़न सही है तो शरीर का तापमान वैसे ही सही रहता है। एक स्टडी में पता चला की जो महिलाएं नियमित रूप से एक्सर्साइज़ करती हैं उन्हें एक दम से गर्मी लगने की समस्या कम ही रहती है।

10.अन्य उपचार: अगर सही प्रकार से पानी लेने और श्वसन की तकनीक से भी आपकी गर्मी लगने की समस्या सही नहीं हो रही है तो आपको डॉक्टर से बात करके अन्य उपचार के बारे में बात करनी चाहिए। आप एक्यूपंचर या ब्लड प्रैशर की दवाई ले सकती हैं।

11.भीड़ से दूर रहें: जिन एरिया में भीड़ होती है उनमें आपको एक दम से गर्मी लग सकती है। भीड़ से आपको एक दम से व्याकुलता भी हो सकती है। भीड़ वाले एरिया वैसे ही सेफ नहीं होते, क्योंकि कुछ भी होने पर भगदड़ मच सकती है। आपको याद रखना है की इस समय आपके अंदर व्याकुलता और तनाव दोनों ही काफी कम होना चाहिए।

12.लगातार नहाना और स्विमिंग: आपको इस समय दिन में कुछ ज़्यादा ही नहाना चाहिए, इससे आपका शरीर ठंडा रहेगा। अगर आप सहज हैं तो आपको स्विमिंग भी करनी चाहिए, पानी में रहने से आपका मूड अच्छा हो सकता है और आपका शरीर ठंडा तो रहता ही है।

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

एक दम से गर्मी लगना ज़्यादा समय के लिए नहीं होता, लेकिन इससे आपको दिक्कत हो सकती है, जैसे पानी की कमी होना, और थकावट। सही तरीके से आराम करने से आपको ये समस्या ज़्यादा नहीं रहेगी। लेकिन अगर आपकी ये दिक्कत दुबारा आती है तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

याद रखें:

आपको इस समय दवाई से आराम मिल सकता है, लेकिन आपको कोई भी दवाई डॉक्टर से पूछकर ही लेनी चाहिए। इस समय जड़ीबूटी ना लें। कुछ भी लेने से पहले डॉक्टर से किसी बात कर ही लें।

लगातार पूछे गए सवाल

1.क्या एक दम से गर्मी लगना प्रेगनेंसी के सबसे पहले लक्षण है?

गर्भधारण करने के बाद जो लक्षण आपको प्रेगनेंसी का सबसे पहले दिखाई देगा वो एक दम से गर्मी लगना ही है। कुछ महिलाओं में अंडोत्सर्जन के आठ से दस दिन बाद ही गर्मी लगने और पेट दर्द के लक्षण दिखते हैं।

एक दम से गर्मी के साथ आपको थकान, जी मिचलना, नींद ना आना, चक्कर आना पीठ में दर्द और एक दम से कुछ ज़्यादा ही सुँघाई देने जैसे लक्षण दिखाई देंगे। और इसका मतलब है की आप प्रेगनेंट हैं। लेकिन अगर आपको गर्मी के साथ और कोई लक्षण नहीं दिखे तो आपको कुछ और समस्या हो सकती है।

2.क्या एक दम से गर्मी लगने से बच्चे के लिंग का पता चलता है?

इससे बच्चे के लिंग का पता नहीं चलता है। ये बस दादी नानी की कहानी का हिस्सा है, जिसका मतलब है की अगर आपको गर्म या पसीने आ रहे हैं तो आपको लड़की हो सकती है।

3.क्या इससे बच्चे पर असर पड़ता है?

इससे बच्चे पर कोई असर नहीं पड़ता है, क्योंकि ये भी प्रेगनेंसी के लक्षण है जो लगभग सभी महिलाओं को होते हैं। जी मिचलने की तरह इससे भी माँ को थोड़ी दिक्कत होती है पर बच्चे को कोई दिक्कत नहीं होती।

4.क्या इससे प्रेगनेंसी में सर में दर्द होता है?

कहा जाता है की प्रेगनेंसी में शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव और खून के संचार के बढ़ने से आपको सर में दर्द होता है। कुछ और लक्षण जैसे एक दम से गर्मी लगना, थकान, जी मिचलना, तनाव, और बढ़ी हुई भूख से आपके सर दर्द की समस्या बढ़ सकती है।

5.प्रेगनेंसी के बाद ये समस्या कब तक रहती है?

बच्चे को पैदा करने के बाद ये समस्या एक दम से नहीं जाती है, जिसे जाने में थोड़ा समय लगता है, ऐसा तब तक नहीं होता है जब तक आपके हार्मोन्स का लेवल पहले जैसा नहीं हो जाता, और आपके स्तन में जब तक बच्चे के लिए प्रयाप्त दूध नहीं बन जाता।

शरीर में पानी की कम ना होने देना, सही प्रकार से आराम करने और अपना वज़न नियंत्रण में रखने से आपको एक दम से गर्मी की समस्या कम ही होगी। हालांकि ये कुछ खतरनाक नहीं होती है पर इनसे महिलाओं को थोड़ी दिक्कत होती है।

प्रेगनेंसी(गर्भावस्था) से जुड़ी और जानकारी लेने के लिए कृपया हमारी एप यहाँ डाउनलोड करें।