प्रेगनेंसी के समय कुछ ज़्यादा ही सुँघाई देना

Heightened smell during pregnancy

आपकी नाक कुछ ज़्यादा ही काम करती है, वो भी खासकर प्रेगनेंसी के समय। जब आपको प्रेगनेंसी में कुछ ज़्यादा ही सुँघाई दे, तो आपको ये करना चाहिए।

इस समय जब आप होटल जाती हैं, तो आप दूर से ही पता लगा लेती हैं की खाने में आज क्या है? क्या कोई भी खुशबू आपको दूर से आ जाती है? इस समय आपको इत्र की सुगंध भी कुछ ज़्यादा ही आती है। ये भी प्रेगनेंसी के कुछ लक्षण हैं।

इसका कारण क्या है?

प्रेगनेंसी में जो भी होता है उसकी वजह बढ़ते हुए हार्मोन्स हैं, इस समय भी कहानी कुछ अलग नहीं है। एस्ट्रोजन की वजह से आपको कोई भी खुशबू को कुछ ज़्यादा ही सुँघाई देती है।

आपको इस बारे में क्या जानना चाहिए?

ज़्यादातर सभी महिलाओं को प्रेगनेंसी में सूंघने की क्षमता में कुछ फर्क दिखता है। इससे आपपर काफी फर्क पड़ता है। कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार इसी बढ़ी हुई सूंघने की क्षमता की वजह से आपको जी मिचलने की समस्या होती है। एक अध्यन के अनुसार जिन महिलाओं को कुछ सुँघाई नहीं देता, उन्हें प्रेगनेंसी में जी मिचलने की समस्या नहीं होती। क्या इससे आपको अपनी नाक काटने का मन करता है? सबका करेगा, लेकिन प्रेगनेंसी का ये लक्षण भी बाकियों की तरह चला जाएगा, इसलिए ज़्यादा टेंशन ना लें।

मैं इसके बारे में क्या करूँ?

आप इस समय अपनी नाक तो काट नहीं सकती, लेकिन आप उस गंध से बच सकती हैं जिससे आपको दिक्कत होती है। खासकर वो गंध जिससे आपको जी मिचलने की समस्या होती है। कुछ तरीके नीचे हैं:

कम खाएं: उसी खाने को पकाएँ और खाएं जो आप खा सकती हैं, मतलब जिसकी गंध आपको दिक्कत नहीं देती है। शायद कोई चीज़ आपको पहले काफी अच्छी लगी हो, लेकिन इस समय ये आपको काफी दिक्कत दे सकती है।

हवा आने दें: कुछ भी बनाने के बाद आपको अपनी खिड़की खोलनी है, बल्कि आपको सलाह दी जाती है की आप अपने कमरे या किचन में हमेशा ताज़ा हवा आने दें, इससे आपको जी मिचलने की समस्या नहीं होगी।

सफाई: अपने कपड़ों को इस समय कुछ ज़्यादा ही धोएँ, क्योंकि कपड़ों में गंध रह सकती है, और यही गंध आपको दिक्कत दे सकती है। कई महिलाओं ने ये शिकायत की है की कुछ चीज़ बनाने के कई दिन बाद भी उन्हें इस चीज़ की गंध आई, इसी वजह से आपको काफी बार कपड़े धोने की सलाह दी जाती है।

डियोडरेंट ना लगाएँ: आपको इस समय उस चीज़ दूर रहना है जिसकी गंध काफी तेज़ होती है। जैसे सेंट, इसकी जगह आप कम सेंट वाले या बिना सेंट के उत्पाद इस्तेमाल कर सकती हैं।

अपने पास वाले लोगों को बताएं: आपको अपने पास रहने वाले लोगों को बताना है की आपको अब क्या दिक्कत हो रही है, मतलब आपको कुछ ज़्यादा ही सुँघाई देता है। शायद वो इस वजह से पर्फ्यूम लगाना कम कर दें, माइक्रोवेव में आपको फिश नहीं पकानी है। किसी भी प्रकार के भयंकर धुएँ से तो आपको दूर ही रहना है। घर में आप यदि सबको बता दें की आपको क्या बुरा लग रहा है तो शायद वो आपके अनुसार ही खाना भी बनाएँ।

आस-पास वो गंध रखें जो पसंद हो: अपने आस-पास वही गंध रखें जो आपको सही में पसंद हो। कहा जाता है की पुदीने, नींबू, अदरक, और दालचीनी की खुशबू से आपकी जी मिचलने की समस्या को आराम मिल सकता है। कुछ महिलों को बच्चों के पाउडर से भी आराम मिलता है।

क्या मैं इस ज़्यादा सूंघने की समस्या से बच सकती हूँ?

आपको बताते हुए हमें दुख होगा की ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे आपको ये ज़्यादा सूंघने की समस्या कम हो, वो भी तब जब आपके हार्मोन्स बढ़ रहे हों। आपको इस समस्या के जाने के लिए इंतज़ार ही करना होगा। बस ये सोच लें की ये आपको भगवान का वरदान है, और वैसे भी ये दिक्कत आपके साथ हमेशा तो रहने वाली है नहीं।

कब खत्म होगी ये समस्या?

ज़्यादातर महिलाओं के लिए ये समस्या प्रेगनेंसी में बाद की अवस्था में चली जाती है, और अगर ऐसा नहीं हुआ तो बच्चे के पैदा होने के बाद ये बाकी प्रेगनेंसी लक्षण की तरह चले जाते हैं।