प्रेगनेंसी में ये लक्षण आपको बिलकुल भी हल्के में नहीं लेने चाहिए

Pregnancy symptoms you should never ignore

आपका शरीर प्रेगनेंसी में काफी तेज़ी से बदलता है, और इस समय आपके शरीर में अगर दर्द हो जाए तो पता लगाना की वो नॉर्मल या नहीं काफी मुश्किल है, आप सोच सकती हैं की किसी समस्या के लिए डॉक्टर को फोन किया जाए या नहीं। अगर आपको लगता है की कुछ गड़बड़ है तो अपने दिल की आवाज़ हमेशा सुनें।

प्रेगनेंसी में मुझे कब डॉक्टर को फोन करना चाहिए?

ये अलग-अलग चीजों पर निर्भर करता है-कुछ लक्षण आपकी स्वास्थ से जुड़ी हिस्ट्री के कारण ज़्यादा अहम होते हैं, और इस बात पर भी निर्भर करते हैं की आप कितने महीने की गर्भवती हैं। डॉक्टर को आप जब मिलें, तब उनसे पूछें की आने वाले समय में क्या हो सकता है, इससे आपको अच्छी जानकारी रहेगी। अगर आपको नीचे दिए गए कोई भी लक्षण हैं तो अपने डॉक्टर को तुरंत फोन करें।

प्रेगनेंसी में सूजन(इडेमा)

आपका बच्चा आम समय से कम हिल रहा है। आप बच्चे को 16वें हफ्ते के बाद से ही हिलते हुए महसूस कर सकती हैं, और अगर बच्चे की गतिविधि थोड़ी भी कम होती है तो ये चिंता का विषय हो सकता है। जब भी आपको थोड़ा शक हो उस समय अपने डॉक्टर को फोन करें। अपने डॉक्टर से ये पूछें की क्या आप बच्चे की लातों को गिनकर उसकी गतिविधि पर नज़र रख सकती हैं या नहीं।

योनी से खून आना: ये बात ध्यान रखें की सेक्स करने के बाद आपको योनी से द्रव निकल सकता है।

अगर आपकी योनी से सफ़ेद पानी की जगह बलगम, या खून सा आ रहा है तो ये चिंता का विषय हो सकता है।

श्रोणि पर दबाव, इसमें आपको लगता है की आपका शरीर नीचे की ओर दबाव बना रहा है, आपको एंठन हो सकती है, या पेट में दर्द हो सकता है। इस समय पानी लें, और आराम करें। अगर ये लक्षण एक घंटे में नहीं जाएँ तो अपने डॉक्टर को जरूर फोन करें।

पेशाब में जलन होना: अगर आपको पेशाब में जलन हो या बार-बार पेशाब जाने का मन करे, या पेशाब करने में दिक्कत हो, अगर थोड़ा सा खून का रंग सामने आए तो ये मूत्र थैली का इन्फ़ैकशन हो सकता है।

ठंड लगना, या 100.4 डिग्री फेरेनहाइट से ज़्यादा बुखार होना

बुखार या दर्द के साथ उल्टी आना

देखने से जुड़ी दिक्कत: आपको दृष्टि से जुड़ी दिक्कत हो सकती है, जैसे दो-दो दिखाई देना, धुंधला दिखाई देना, साफ नहीं दिखाई देना। ये प्रीक्लेम्सिया के लक्षण हो सकते हैं।

सर का दर्द: दर्द का बार-बार आना या आके काफी देर तक रहना, यदि इस समय आपको देखने में भी दिक्कत हो रही है तो अपने डॉक्टर से तुरंत बात करें।

आपके चेहरे पर अगर सूजन है या आंखो के चारो ओर भी सूजा लग रहा है। यदि एक दम से सूजन हुई है, तो ये भी चिंता का विषय हो सकता है।

एक दम से कुछ ज़्यादा ही वज़न बढ़ना

पेट में लगी चोट, जैसे कहीं से एक दम से गिर जाना

हाथ, पैर, हथेली, और तलुओं में एक दम से खुजली होना, या पूरे शरीर में खुजली लगना

पेट के ऊपर या कंधों में बार-बार दर्द होना, खासकर पसलियों के नीचे, आपकी दाईं तरफ

फ्लू के लक्षण: अपने डॉक्टर को इस बात की जानकारी दें की आप किसी फ्लू वाले इंसान के संपर्क में आई थी, तब भी उन्हें बताएं जब आपको खुदमें फ्लू के लक्षण दिख रहे हों। इसमें बुखार, गले में दर्द, खांसी, नाक बहना, और शरीर में दर्द होना शामिल है। आपको इस स्थिति में दस्त या उल्टी भी हो सकती है। फ्लू से बचने के लिए आपको फ्लू शॉट लेने चाहिए, फ्लू गर्भवती महिलाओं के लिए काफी गंभीर हो सकता है।

ज़ीका वाइरस के संपर्क में आना: अगर आप या आपके पार्टनर ऐसे एरिया में सफर करके आए हैं जहां ज़ीका वाइरस पाया गया है तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में तुरंत जानकारी दें। इस स्थिति में बिना किसी लक्षण के दिखने के भी आपको अपनी जांच करवानी चाहिए। कई लोगों को ज़ीका के कोई लक्षण नहीं होते, लेकिन बाद में उन्हें एक दम से बुखार, खुजली, जोड़ों में दर्द हो जाता है। इसमें सर में दर्द भी होता है।

फैलने वाली बीमारियों के संपर्क में जाना। अगर आप ऐसे इंसान के पास गए हैं जिन्हें खसरा या चेचक हुआ है तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में बताएं।

डिप्रेशन, या भयंकर व्याकुलता: अगर आपको एक दम से खुशी या एक दम दुख महसूस हो तो ये डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं। आपको इस समय तुरंत मदद लेनी चाहिए।

किसी अन्य समस्या में भी आपको डॉक्टर को कॉल करना है, जैसे अस्थमा।

मुझे कब मेडिकल मदद की ज़रूरत पड़ेगी?

इन स्थिति में आप सीधे हॉस्पिटल की ओर जाएँ:

छाती में दर्द, सीने में जलन, या सीने में दिक्कत

खाँसते हुए खून निकलना

एक दम से चक्कर आना, या मूर्छित होना

काफी तेज़ बुखार आना

गंभीर दस्त होना, जो 24 घंटे से ज़्यादा रुकें

बार बार पेट में दर्द होना

बार बार उल्टी होना

सांस लेने में दिक्कत होना या सांस फूलना