अप्गर स्कोर

Apgar score

क्या है अप्गर स्कोर?

अप्गर स्कोर वो जांच है जिसमें पता चलता है की बच्चा जन्म के समय कैसा है, इससे पता चलता है की बच्चा आने वाले दिनों में बिना दवाई के आगे बढ़ सकता है या नहीं। आपके डॉक्टर बच्चे के जन्म के बाद एक मिनट और पाँच मिनट की जांच करेंगे।

यह स्कोर- 1952 में यह संज्ञाहरणविज्ञानी वर्जीनिया अप्गर ने इसको बनाया था और अब सब इसका इस्तेमाल करते हैं। इसमें बच्चे की दिखावट, धड़कन, मसल एक्टिविटी और सांस लेने को 0 से लेकर 2 तक रेट किया जाता है। अप्गर शब्द में ही पता चल जाता है की क्या जांच हो रही है। ए से एक्टिविटी, पी से पल्स, जी से ग्रिमेन्स, ए से एपिरेन्स और आर से रेस्पिरेशन।

इन चीजों का बच्चे की कंडिशन का पता चलता है ऐसे: 

एक्टिविटी(मसल टोन)0 लंगड़ाहट; कोई गतिविधि नहीं1 हाथ और पाँव में कुछ मुड़ाव2 एक मिनट में कम से कम 100 धड़कन 

धड़कन 0 कोई धड़कन नहीं 1 एक मिनट में 100 से कम धड़कन 2 एक मिनट में 100 धड़कन

दिखावट(रंग)0 बच्चे का पूरा शरीर नीले सिलेटी या पीले रंग का 1 शरीर में अच्छा रंग साथ में हाथ और पाँव में नीला सा रंग2 हर जगह अच्छा रंग 

सांस लेना 0 सांस नहीं ले रहा है 1 धीमे रो रहा है; अनियमित सांस लेना 2 अच्छी तरह से रोना, और सांस भी नियमित होनी